Saturday, 29 June 2013

ईश्वर वाणी-४४,प्रभु कहते हैं हमे दूसरों की अपेक्षा सदा अपने ह्रदय की सुन्नी चाहिए (ishwar vaani-44)

प्रभु कहते हैं हमे अपने जीवन में केवल वो ही कार्य करने चाहिए जो ईश्वर की दृष्टि में श्रेष्ट हो, हमे सदा उनके बताये गए मार्ग पर चलना चाहिए चाहे इसके लिए हमे खुद ही कितने कष्ट एवं विरोध और आलोचनाओ को सहना पड़े किन्तु विचलित हुए बिना निरंतर प्रभु की बातों का अनुसरण कर उनके द्वारा बताये गए मार्ग पर ही चलना चाहिये। 


प्रभु कहते हैं यदि हम दुनिया और लोगों को खुश रखने और ये सोच कर कोई कार्य करते हैं की यदि हमने ऐसा कार्य नहीं किया तो लोग क्या कहेंगे और ये सोच कर हम प्रभु मार्ग पर चलने से डरते हैं तो ऐसे लोग कभी खुश नही रह सकते क्योंकि यदि कोई भी व्यक्ति दुनिया की बातों को दिल से लगा कर लोगों द्वारा बताई गयी बातों में आ कर उनके जैसा व्यवहार करता है तो भी ये दुनिया वाले उसके कार्य में कोई न कोई त्रुटी निकाल कर एक ऐसी स्तिथि में पंहुचा देते हैं की व्यक्ति इसके बाद न तो प्रभु का और ना ही इस दुनिया का रह जाता है। 


प्रभु कहते हैं हमे दूसरों की अपेक्षा  सदा अपने ह्रदय की सुन्नी चाहिए और उसी के अनुरूप ही अपना आचरण करना चाहिए  क्योंकि की प्रभु का निवास  स्थान  भी ह्रदय ही है, ह्रदय से आने वाली आवाज़ सदा ईश्वर की होती है और हमे सदा गलत और सही का  बोध कराती रहती है। 


ईश्वर इस बात को स्पष्ट करने हेतु एक गधे की और एक चूहे की दो अलग-अलग कहानिया सुनते है जो लोगों की बातों में आ कर किस प्रकार कष्ट पाते है। 


इसलिए प्रभु कहते हैं की हमे सदा अपने ह्रदय की सुनते हुए प्रभु के बताये गए मार्ग पर चलना चाहिए, लोग एवं दुनिया की परवाह न करते हुए केवल प्रभु के ध्यान में रहते हुए ईश्वर के द्वारा बताये गए कार्यों में सदा विलीन रहना चाहिये। 


 आमॆन। 



Monday, 24 June 2013

ईश्वर वाणी ४ ३ (ishwar vaani 43)

ईश्वर कहते हैं यदि कोई भी व्यक्ति चाहे जिस भी रूप में प्रभु का नाम लेता है तो उसे पुण्य की प्राप्ति होती है, प्रभु कहते हैं यदि कोई दुष्ट व्यक्ति भी अपनी दुष्टतावश भी प्रभु का नाम लेता है तब भी उसे पुण्य की प्राप्ति होती है, प्रभु कहते हैं जो लोग उनकी आलोचना करते हुए भी हर समय उनका नाम जपते हैं ऐसे व्यक्ति भी मोक्ष प्राप्ति के भागी बनते हैं । प्रभु कहते हैं जाने में लिया जाना वाला ईश्वर का नाम  जितना हमे मोक्ष प्रदान करता है उससे भी अधिक अनजाने में लिया जाने वाला उनका नाम मोक्ष प्रदान करता है क्योंकि जाने में जब उनका नाम लिया जाता है तब एक स्वार्थ मन में छिपा होता है वो है खुद को मोक्ष प्राप्ति के लिए ईश्वर की स्तुति का, किन्तु अनजाने में जब प्रभु का नाम लिया जाता है तब कोई स्वार्थ भावना इससे जुडी नहीं होती और इस प्रकार अनजाने में प्रभु का स्मरण करने वाला व्यक्ति प्रभु कृपया कर पात्र बन कर अनंत मोक्ष को प्राप्त होता है,


प्रभु कहते हैं प्राचीन काल में  'रावण' 'कंश ' जैसे दुष्ट पापी राक्षश भी प्रभु हाथों न सिर्फ मारे गए अपितु अनंत मोक्ष को प्राप्त हुए, ऐसा इसलिए हुआ की भले वो अनेक पाप करते रहे हो इस पृथ्वी पर और धुर विरोधी रहे हो प्रभु के किन्तु जाने अनजाने वो हमेशा उनका नाम ले कर उनकी स्तुति करते रहते थे और इस प्रकार तमाम अनेतिक और दुष्ट कर्म करने के पश्चात भी वो मोक्ष को प्राप्त हुये। 



ईश्वर कहते हैं हमे सदा ईश्वर का स्मरण करते रहना चाहिए, हमे निह्वार्थ भाव से प्रभु की स्तुति करनी चाहिए किसी भी प्रकार का लोभ नहीं रखना चाहिए, यदि हम निःस्वार्थ भाव से प्रभु की स्तुति करते हैं एवं उनके बताये गए मार्ग पर चलते हैं तो निश्चित ही प्रभु लोक को प्राप्त कर अनन्त मोक्ष को प्राप्त करते है। 



Sunday, 23 June 2013

आशिकि

किसी के लिए गम तो किसी के लिए ख़ुशी है आशिकी, किसी के लिए दिल बहलाने की चीज़ है तो किसी के लिए ज़िन्दगी है ये आशिकी, किसी के लिए अश्क तो किसी के लिए मुस्कान है ये आशिकी,  किसी को तनहा करने का तो किसी के सूनेपन को भरने का नाम है आशिकी, किसी के लिए इबादत तो किसी के लिए दिल्लगी का नाम है ये आशिकि। 

ये ज़िन्दगी किसी के बगेर रूकती तो नहीं

ये ज़िन्दगी किसी के बगेर रूकती तो नहीं, आने वाले आते हैं और जाने वाले जाते हैं जीवन में पर किसी के आने पर  होती है ख़ुशी जितनी उसके जाने पर ये ज़िन्दगी रूकती तो नहीं, कुछ यादे दे   कर एक दिन अकेला छोड़ कर चले जाते है जाने वाले, कर के आँखे नाम और रोता छोड़ चले जाते  हैं जाने वाले पर किसी के जाने पर ज़िन्दगी रूकती तो नहीं, ख़ुशी और गम का संगम है ज़िन्दगी, मिलने बिछड़ने का नाम है ज़िन्दगी, कभी आंसू तो कभी लबो पे मुस्कराहट का नाम है ज़िन्दगी, कभी अपनों का साथ तो कभी भीड़ में भी खुद को तनहा होने का  अहसास है ज़िन्दगी, कभी पास तो कभी दूर होने का नाम है ज़िन्दगी, जो आता है करीब हमारे दूर उसके जाने पर ज़िन्दगी रूकती तो  नहीं, दिल में रह कर दिल तोड़ देने पर भी ये रूकती तो नहीं, हर गम से जुदा हो कर, हर लम्हा मुस्कुरा कर जीने का नाम है ज़िन्दगी क्योंकि ये ज़िन्दगी कभी किसी के बगेर रूकती तो नहीं...

Saturday, 22 June 2013

Vidhwa Vivaah- Bhaag-2 (A Reall Story)

Shaadi kar ke Deepa fir se ek baar apne nav-jeevan ki aas dil mein liye apne sasuraal chali gayi, kintu Deepa ki ye doosri shaadi (Vidhwa Vivaah) sahaz tareeke se nahi hua, na jaane kitne virodh aur kitnee yatnaao ko Deepa aur uske pareewar ne jhela tha.


 jin logon ki godd mein Deepa pali-badi wo hi log usse apne pati ko khaane wali dayan kah kar usse bulaate, usse achhooto jaisa vyavhaar karte, aisa vartaav karte uske saath jaise usne hi apne hi pati ki hatyaa ki ho, na jaane kitne prakaar ke taane uss par logon dwaara kase jaate.


Haalaki Vijay ke mata-pita Deepa ko apne saath apne ghar le jaana chaahte the kintu pati ki achaanak hui mrityu aur iss prakaar hui Vidhwa ka dard dil mein basaye wo besudh si ho gayi thi, na kisi se kuch bolti aur na kahi ghoomne jaati, yadi kahi jaati bhi to logon ke taane uske dil ko cheer kar rakh dete, ek din Vijay ke Pita aur Bhai Deepa ko lene uske maayke aaye lekin Deepa ke bhaiyon aur Pita ne usse bhejne se saaf mana kar diya, unhone kaha abhi to uss dukh se ubari nahi hai waha rahegi to aur peeda paaygi, jab tak uska gam kuch kam nahi ho jaata tab tak uski marzi ke bina hum usse sasuraal nahi bhejenge, ye sun kar Deepa ke Sasur aur Jeth ne kaha agar Deepa ko nahi bhej sakte to koi baat nahi kam se kam un swarn-aabhushano ko to wapas kar do jo vivaah ke samay humne Deepa ko diye the, aakhir ab wo unka kya karegi, kintu iske pashchaat bhi Deepa ke pita ne kaha jab tak ki  wo sambhal nahi paati hum uski marzi ke bina kuch nahi karenge aur ye gahne uske hain aur uski marzi ke bina hum kisi ko nahi de sakte.


wakt ke saath Deepa kuch sambhli to uske pita aur bhai ne uske saamne doosri shaadi ka prastaav rakha, pahle to Deepa ne mana kar diya par ghar walon ke manaane se wo maan gayi, kintu samaaj iss vivaah ke virodh mein aa gaya, poora mohalla iss shaadi ke virodh mein khada ho gaya haalaki tatkaalin sarkaar ne mahilaaon ke 'Vidhwa Vivah' ko poorn roop se manzoori de di thi kintu iske baad bhi ek badaa Hindu samudaaye iske virodh mein tha, itne mein kisi ne Vijay ke ghar walon ko soochna de di to wo log bhi aa pahuche aur bole "Deepa humare ghar ki bahu hai, aap uski shaadi nahi kara sakte, hum usse apne saath le jaaynge," kintu iss vishay par Deepa ke mata-pita ne apni beti ki marzi jaanni chaahi par Deepa chup rahi, iss chuppi ka matlab ye maana gaya ki Deepa wapas nahi jaana chaahti, kintu uske sasuraal walon ne kaha agar wo apnee beti ko nahi bhej rahe to naa bheje kintu jo swarn-aabhushan usse vivaah ke samay diye gaye the wo unhe lauta de, ye sun kar Deepa ke bhaiyon ne kaha humne bhi to vivah mein anek prakaar ke uphaar unhe avam unke jaanne walo ko diye the pahle wo unhe waapas kar de fir hum bhi kar denge, iss prakaar kayi dino ki bahas baazi ke baad Vijay ke ghar wale wapas apne ghar  laut aaye bina aabhooshan liye.


iske baad Deepa ke liye fir se var ki talaash uske ghar walon ne shuru kar di, kayi jagah uski shaadi ki baat chalaayi gayi kintu uske vidhwa hone baat sun kar har jagah se uska rishta bante bante rah jaata, idhar Deepa bhi Jhooth ke saath apnii doosri Shaadi nahi karna chaahti thi, Deepa ne kaha ki wo ussi se shaadi karegi jo usse uske vidhwa roop mein hi apnaayega,  iss tarah kayi jagah se na hone ke baad ek pareewar ki taraf se Deepa ke liye rishta aaya, ladka Doctor tha Agra mein kintu uske mata-pita avam bhai-bahan koi nai the wo anaath tha kintu theek thaak paise jarur kamata tha,  idhar rishta tay ho gaya, ladka behad saade tareeke se hone walli shaadi ke liye maan gaya aur unkee shaadi ka muhoort bhi tay ho gaya.


kintu iss shaadi ke liye ab bhi mohalle avam rishtedaaro ne virodh karna nahi chhoda, unhone isse dharm ke virudh maante huye Deepa aur uske pareewar ka  poorn bahishakaar kiya, kintu un logon ne iski parwaah nahi ki aur chup-chaap shaadi ki taiyaari mein jut gaye.


udhar Vijay ke ghar mein bhi kisi ne soochna de di ki Deepa ki Doosri shaadi hone ja rahi hai, wo log ek baar fir uske ghar aa dhamke aur iss shaadi ko rukwaane ki baat kah kar Deepa ko apne saath le jaane ke liye bolne lage aur kahne lage agar bhej nahi sakte usse to kam se kam humare gahne to wapas kar do par Deepa ke ghar walon ne fir wo hi shart unke saamne rakhi ki aap shaadi mein diye gaye uphaar aur dahejj hume lauta do to hum aapke jewraat wapas kar de kintu iske liye wo taiyaar naa huye aur unhone kaha "humare yaha vadhu ki taraf se diya gaya dahejj avam samast uphaar kisi bhi soorat mein wapas nahi kiye jaate kintu yadi vadhu apni sasuraal mein na rahna chaahti ho to usse avshya hi shaadi mein diye gaye aabhushan lautaane padte hain, aur waise bhi ek vidhwa ka in gehno par koi adhikaar nahi rah jaata, aur fir waise bhi ab to uski shaadi kahi aur aap log kar ke hi maanoge aise mein hume humare gehne to milne hi chaahiye," kintu aakhirkaar unhe ek baar fir khaalihaath lautna pada kyonki ki Deepa ke pareewar ne unki kisi bhi baat ko manne se saaf inkaar kar diya aur apne sharft pe datey rahe.


udhar Vijay ki ma ko ek raat sapne mein Vijay dikhaai diye aur unhone sapne mein apni ma se kaha "main Deepa se bahut pyaar karta hoon aur usse kisi aur ki hote nahi dekh sakta, agar Deepa ne kisi aur ka haath thaama to main usse apne saath le jaaunga, " ye baat Vijay ki ma ne kisi tarah se Deepa tak pahuchaayi par isse sirf iss shaadi ko rukwaane ka hathkanda samajh kar iss oor kisi ne dhyaan nahi diya, kintu shaadi ki theek ek raat pahle ye hi sapna Deepa ko bhi aaya kintu isse usne bhi apne dil ka vaham avam ateet ki yaad ka hi ek roop samajh kar bhula diya.


tamam kaleshon aur virodhon ke baad aakhir Deepa ki doosri shaadi ho gayi aur wo apne sasuraal chali aayi. iske baad kuch din to theek chala aur uske chaar bachhe huye do ladke aur do ladki, kintu  ek roz uske bade bete ki ek durghatna mein maut ho gayi, iske baad chhote bete aur fir dono betiyon ki aakashmik maut ho gayi,  apne bachhon ko kho chuki Deepa behad sadme mein thi ki ek roz uske pati Naveen ki bhi maut ho gayi, ek raat  sapne mein usne fir se Vijay ko dekha aur Vijay ne usse kaha "maine kaha tha na ki main tumhe kisi aur ki nahi hone de sakta, tumne meri baat nahi maani aur isliye maine tumse tumhari ek ek kar ke har khushi ko tumse chhin liya aur tumhe akela chhod diya, jo grahthi tumne kisi aur ke saath basayi wo main apne saath chaahta tha, main humare bachhe aur humara pareewar chaahta tha kintu aisa ho na sake lekin iss shareer ke chhoot jaane ke baad bhi main tumse juda na ho saka shayad isliye kyonki meri ichha adhoori jo rah gayi, apnee mohabbat ke kaaran mujhe mukti na mil saki kintu main tumhe kisi aur ki bhi hote nahi dekh saka, isliye maine ek ek kar ke un sabko tumse door kar diya jo tumhare kareeb aaye the iss shaadi ke baad kyonki tum par kewal mera hi adhikaar tha aur aaj bhi hai, aur ab tumhe aur jyada wakt akele rahne ki jarurat nahi hai yaha, ab main tumhe apne saath le jaaunga aur kabhi hum fir juda na hounge iske baad," iske baad Deepa ki bhi mahaz 30 baras ki umar mein hi maut ho gayi aur chhod gayi apne peechhe kayi sawal, ek vidhwa ka vivaah karna kya gunaah tha uska aur  kya Vijay ka dikhana aur doosri shaadi ke baad bhi uska sab kuch chhin jaana kya ittifaak tha ya wakai Vijay maut ke baad bhi har pal uske saath tha aur usse mohabbat karata tha aur ussi ne ye sab Deepa ke saath kiya tha, aap soch kar mujhe bataye..



thanks and regards

      Archu


Vidhwa Vivaah- Bhaag-1 (A Reall Story)


(Note: ye kahani (1936) mein vidhwa vivaah par aadharit ek sachhi ghatna  hai, paatron ki pechaan na ujaagar ho iske kaaran humne unke naam avam sthaanon ko yaha badal diya hai kintu isse iss kahani ke mool tatva mein koi pareevartan nahi aaya hai, paathak iss kahani pade avam hume bataye ki tab mein aur ab ke Hindustani samaj mein kya antar aaya hai, aur aaj ka samaj vidhwa vivaah ko kis nazariye se dekhta hai. 
Dhanyawaad.)

Dulhan ke libaas mein lipati Deepa bahut hi khoobsurat lag rahi hai, baarat aane wali hai aur ghar wale bas baarat ki pratiksha mein apni nazare darwaaze pe bichhaaye baithe hain, Deepa ke pita Shri. Badri Prasad Mishra ji to bade hi bechain se ghoom rahe hain, anek sawal unke jahan mein is wakt hai, Deepa ki ma Mandakini devi  bhi apne pati ke samaan hi bechain hai aur soch rahi hai ki aakhir abhi tak baarat kyon nahi aayi jabki usse to ab tak aa jana chahiye, Deepa ke chaaron bade bhai bhi mohalle ke chakkar kayi baar kaat chuke par abhi tak baarat aur baratiyon ka kuch bhi ataa pata nahi,

Ghar mein shaadi ka mahol hai lekin naa to jyada ronak hai aur naa hi rishtedaron ka yaha taanta laga hua hai, padosi bhi apne gharon mein baithe hain jaise yaha shaadi ka mahol nahi balki aane wale kisi toofan ka koi sanket unhe mil raha ho,  kai padosi aur rishtedaar to is shaadi ke khilaaf the aur isse Hindu Dharm ke virudh maan rahe the aur isse rukwaane ke liye unhone bharsak prayatn bhi kare kintu Deepa ke bhaiyo avam uske pita ke aadhunik vichaaron ke aage unkee ek naa chali aur aakhir Deepa ka vivah ek achhe ghar mein tay ho hi gaya.
 
Ek taraf iss vivaah ko le kar logon ke apne vichaar hain to doosri taraf dulhan ke bhesh mein sazi dhazi Deepa ko aaj se 2 saal pahle ka wo wakt yaad aa raha hai jab uski shaadi  Aligarh ke rahne wale yuvak Vijay se tay hui thi, Vijay Jhansi mein  station master(Railway) ki naukari karta tha, dikhne mein bhi wo bilkul Deepa ki tarah hi tha, Deepa bahut hi khoobsurat aur ek padi likhi ladki thi, ladka bhi dikhne mein bahut achha aur pada likha aur ek achhi sarkaari naukari praapt tha, ghar wale bahut khush the is rishte ko le kar aur shaadi mein koi ko-kasar nhi chhodna  chaahte the, haalaki ladke walon ki taraf se koi maang nahi thi Dahejj ko le kar par fir bhi ladki wale apni taraf koi mauka unhe kuch bhi kahne ka dena nahi chaahte the,

Shaadi ki taiyaariya joro par chal rahi thi, ghar mein rishtedaaron ka jamghat sa laga hua tha, padosi bhi behad khush the aur unka bhi aana jaana laga hua tha, aakhir wo din aa hi gaya jab Deepa ki shaadi Vijay se hone ja rahi thi, Dulhan ke libaas mein Deepa maano koi apsara lag rahi thi, saheliyon se ghiri aur hasi thitholi karke usse chhedti saheliya tang usse kar rahi thi ki itne mein halla hua ki baarat aa gayi hai aur ye sun kar Deepa ki saheliya usse akela chhod apne hone wale Jeeja Ji ko dekhne ke liye uske kamre se baahar aa gayi, Deepa ki shaadi ho gayi aur wo apne sasuraal Aligarh chali aayi.

Tamaam tarah ke aish-aaram pa kar shahri jeevan mein pali Deepa apne sasuraal aa kar heraan ho gayi, yaha ke logon ki jeevan shelli to bilkul dehaatiyon jaisi thi, aisa jeevan to usne isse pahle kabhi jiya hi nahi tha lekin isse hi apna naseeb maan kar Deepa ne issi mein khud ko dhaalne ki kasam khaayi kintu itne mein hi uske dil ki peeda ko shayad uske pati ne samajh liya aur usse kaha “tumhe aise rahne ki aadat nahi na, tum chinta mat karo main tumhe jyada wakt tak yaha nahi rakhunga aur tumhe yaha ke maahol mein khud ko dhaalne ki koshish karne ki jarurat bhi nahi hai, maine tumhse vivah bhi isliye kiya kyonki tum aur tumhra jeevan aur jeevan shelli bilkul meri tarah thi shahari, mere ghar wale ek gaanv ki ladki se mera vivaah karna chahte the kintu main aisa nahi chaahta tha, kyonki main ek padi likhi aur shahri jeeavan jeene walee ladki se vivaah karna chaahta tha jise main apne saath Jhansi le ja saku, tum chinta mat karo kuch din baad main tumhe Jhansi le jaaunga jahan main naukri karta hoon,”  iske baad tamaam paariwaarik virodh ke baad bhi Vijay Deepa ko Jhansi le gaye.


Shaadi ko ek mahine se jyada ho gaya par Deepa ki koi kher-khabar sasuraal se naa pa kar uske mata-pita ati vichalit huye aur unhone apne bade bête ko uskee sasuraal ja kar usse kuch din ke liye apne maayke lane ko kaha,  uske bade bhai Rajendra  pahle to Aligarh gaye fir waha se pata chala ki unki bahan aur bahnoi to Jhansi chale gaye hain, iske baad Rajendra Jhansi gaye, apne bhai ko apne ghar dekh kar Deepa bahut khush hui, Rajendra ne usse kuch dino ke liye apne maayke chalne ko kaha, Deepa na kaha bina apne pati ki aagya ke wo kaise chal sakti hai, Deepa ne kaha “ bhaiya ab meri shaadi ho chuki hai, ab unki marzi hi meri marzi hai, yadi wo kahenge tabhi main aapke saath chal sakti hoon, yadi unhone mana kar diya to un par krodhit hone ki apeksha ye samjhna ki ye aapki bahan ki hi ichha hai,” Deepa ke bhai ne kaha tum chinta naa karo aaj sham ko jaise hi Jija ghar aayenge main unse turant hi is vishya mein baat karunga.

Sham ko jab Vijay ghar aaye to  Rajendra ne Deepa ko kuch dinon ke liye apne saath le jaane ki aagya maangi, Vijay ne turant haami bhar di lekin kaha jyada waqt ke liye aap Deepa ko apne saath nahi rakh sakoge main jald hi usse lene wapas aaunga, iske baad Deepa apne maayke chalne ki taiyaari karne lagi lekin itne mein hi pati-patni ke beech kisi baat par bahas karne ki aawaz Rejendra ko sunai di, itne mein Deepa bhai ke paas aayi aur boli “dekhiye na bhaiya ye zid kar rahe hain ki main bilkul dulhan ki tarah saz dhaz kar aur poori tarah se swarn-aabhushanon mein lipat kar maayke jaau taaki waha apnee saheliyon ko dikha saku ki meri sasuraal kitnee achhi aur kitne prakaar ke aabhushan unhone mujhe diye hain, unhe batau ki main yaha kintnee khush hoon, bhaiya ab aap hi bataiye kya khushi in gehano mein chhipi hoti hai, agar koi khush hota hai to ye to uske chehre se hi pata chal jaata hai, iske saath hi bhaiya agar in mehange gahnon ko pahan ke main jaaungi to raaste mein chor-daakuon ka dar mujhe satayega, chaliye yaha se surakshit chali bhi gayi to waaapas aate mein bhi dar hoga kahi ko durghatna na ghat jaaye,” ye sun kar Rejendra bole “bahan tum sahi ho par tumhare pati bhi sahi hai, tum chinta na karo tumhe kuch nahi hoga, aur yadi ek nav-vivaahita bager gahno ke maayke jaayegi to uske sasuraal ki badnaami hogi, bahan tumhe samsast gahne aur jevraat dhaaran kar ke chalna chaahiye aur rahi baat chor-daakuon ki to main hoon tumhare saath, tumhe kuch nhi hone duna naa yaha se le jaate wakt aur na waha se yaha wapas aate wakt,” ye sun kar Deepa ne kaha ki aap bhi unhi ka paksh le rahe hain kintu iske baad wo  bhai aur pati ki baat maan kar poorn roop se samast jevraat aur gahno mein lipat kar apne bhai ke saath apne maayke chali aayi.

Idhar uske pati Deepa  ke jaane ke baad ek-do din to theek rahe kintu iske baad achaanak uni tabiyat bigad gayi aur unhe aapatkaal mein hi Jhansi ke haspataal mein bharti karanaa pada, taar bhej kar unke ghar walon ko soochna di gayi, unke ghar waale aaye aur unki patni ko na pa kar bahut naaraz huye aur usse turant bulane ke liye taar bhejne ko kaha kintu Vijay ne iske liye mana kar diya aur kaha wo bekaar mein pareshaan hogi, ab wo theek hai aur kuch din mein ghar laut aaynge aur kaam par bhi jaane lagenge, wapas lautne ke baad wo khud hi Deepa ko le aaynge uske maayke se,   kuch din baad Vijay theek ho kar ghar laut aaye aur unke ghar waale bhi waapas Aligarh chale gaye.


Iske baad Vijay ne socha bahut din ho gaye hain ab Deepa ko waapas le aana chaahiye, lekin usse wapas lane se pahle unhone socha ki Jhansi mein jo unki Chachi rahti hain unse ek baar mil lu kyonki jab unki tabiyat kharab thi aur unke mata-pita avam bhai-bhaabhi jab tak Aligarh se Jhansi nahi pahuche the tab tak unhone hi unki dekh-bhaal ki thi, bas ye hi soch kar wo apni Chachi Ji ke ghar chale gaye.

Par kise pata tha ki unke ghar jaana hi Vijay ke lliye maut ka sabab banega, Vijay apni Chachi ke  ghar gaye aur khushi ke mare unki chaachi ne ankeon pakwaan unke liye banaye,  Vijay bhi unke is pyaar kea aage unhe ye na bata sake ki ye sab pakwaan Dr. saahab ne unhe khaane se mana kiya hai, apni Chaachi ke pyaar mein aa kar unhone apna parhez aisa toda ki unki tabiyat khaane khaane ke thodi derr baad hi bahut kharab ho gayi, unhe fir se Haspatal mein bharti karaaaya gaya jahaan Dr. ne bhi jawab de diya,

Vijay ke mata-pita ko soochna di gayi aur iske saath hi Deepa ko bhi uske maayke se bulwa liya gaya, jaise hi wo log Jhansi pahuche tab tak Vijay iss duniya se vida ho chuke the aur Deepa mahaj 16 baras ki umar mein apni shaadi ke 2 maheeno ke bheetar hi vidhwa ho chuki thi.  Itne mein hi aawaz aayi ki baarat aa gayi jadli jaldi sab taiyariya poori karo Deepa apne ateet ke palon se jaagi itne mein hi uski ma uske kamre mein aayi aur boli beti teri baarat aa gayi hai aur tu bhi ab ateet ki baton ko ek bura sapna samajh ke bhula kar apne wale jeevan ke bare mein soch ye kah kar wo chali gayi.
  




Friday, 21 June 2013

मर्द ही वो नाम है उस शख्स का,

 मर्द ही वो नाम है औरत के हर दर्द का, मर्द ही वो नाम है औरत के हर गम का, छीन लेता है जो हर ख़ुशी औरत के लबॊन से मर्द ही वो नाम उस शख्स का,जन्म लेते ही इस दुनिया में कभी बेटी बन कर तो कभी बहु बनकर, कभी प्रेमिका बन कर तो कभी पत्नी बनकर  अनेक रिश्तों में बंध  कर करने  पड़ते हैं बलिदान हर मोड़ पर पे जिस बेगैरत हस्ती के लिए  औरत को मर्द ही वो नाम है उस शख्स का,
कभी रीति-रिवाजों के नाम पर तो कभी   संसकारों के नाम पर, खून के रिश्तों के लिए तो कभी हमसफ़र के नाम पर जाने कितनी बार होती है कुर्बान ये औरत जिसकी ज़िन्दगी आबाद करने के लिए,  नहीं करती कोई उफ़ तक और सह लेती है  हर दर्द अपने दिल पर जिसकी ख़ुशी के लिए मर्द ही नाम है उस बेरहम शख्स का,ले कर फायदा औरत के ज़ज्बातों का खेल कर औरत के दिल से तोड़ कर उसे खिलौना समझ कर छोड़ उसे अकेले तनहा बीच मझधार में बेसहारे इस  दुनिया में दूर जाने वाले खुदगर्ज़ का मर्द ही नाम है उस शख्स का....

अश्क बहाते रहे…

 हम वफ़ा निभाते रहे वो बेवफाई का दामन थामे रहे, हम तन्हाई में भी मुस्कुराते रहे वो रुसवाई दिखाते रहे, सोचा था हमने कभी तो ख़त्म होगा उनका ये सितम हम पर, बस ये ही सोच कर हम ज़िन्दगी लुटाते रहे वो इसे दिल बहलाने का आसन तरीका मान कर दिल अपना बहला कर हर वक्त हमे रुलाते रहे, उनकी आँखों में ख़ुशी देख कर हर पल हम भी दिल उनका रखने रखने के खातिर पूरी जिदंगी यु ही अश्क बहाते रहे…

Thursday, 20 June 2013

खुश हूँ बहुत मैं हर गम से दूर जा कर


मैं खुश हूँ बहुत इतने रंग ज़िन्दगी में पा  कर ,खुश हूँ बहुत मैं तुझे संग पा कर, खुश हूँ बहुत मैं हर गम से दूर जा कर, खुश हूँ बहुत मैं अश्कों से जुदा हो कर,

एक कलि थी मैं बिन तुम्हारे पर आज खुश हूँ मैं फूल बन कर, आसमान में बिखरे हुए सितारों की तरह बिखरी पड़ी थी मैं आज चाँद बन कर बहुत खुश हूँ मैं,हालत से हारी, गम की मारी हर दर्द सीने में छिपाए बहुत रोती  थी मैं पर आज बरसों बाद मुस्कुरा कर बहुत खुश हूँ मैं,तन्हाइयों में रहती थी कभी अकेली पर आज अपनों को पा  कर  बहुत खुश हूँ मैं,
मिलाया तूने खुद मुझको मुझी से, रोते हुए हसाया तूने मुझे कितनी ख़ुशी से,मिला साथ जब अपनों का तब भी साथ मेरे सिर्फ तुम्ही थे , मेरे सूनेपन से ले कर अपनों के मिलन के  वक्त भी  संग केवल मेरे तुम्ही थे, मेरे हर पल मेरे हर लम्हा साथ सिर्फ तुम्ही थे, आज खुश हूँ बहुत मैं अपनों को पा कर, आज खुश हूँ बहुत मैं अपनों के करीब जा कर, आज खुश हूँ बहुत मैं तुम्हे  अपने करीब ला कर,
मैं खुश हूँ बहुत इतने रंग ज़िन्दगी में पा  कर ,खुश हूँ बहुत मैं तुझे संग प् कर, खुश हूँ बहुत मैं हर गम से दूर जा कर, खुश हूँ बहुत मैं अश्कों से जुदा हो कर,


ईश्वर वाणी- दुष्टों को दण्डित करना उचित या अनुचित **42**

नमस्कार दोस्तों आज हम हाज़िर हैं ईश्वर वाणी में ईश्वर द्वारा बताई गयी बातों के साथ। दोस्तों हमारे मन में कुछ सवाल उठे और उन्हें हमने प्रभु से पुछा, प्रभु ने हमे उनके उत्तर क्या दिए और क्या सवाल हमने उनसे पूछे ये हम आपको नीचे बताते है…




प्रश्न ? हमने प्रभु से पूछा की भगवंत कहीं तो आपने कहा है की दुष्टों और दुराचारियों के लिए ठीक वैसा ही आचरण करना गलत नहीं है किन्तु कही आपने कहा है की जो जैसा है हमे उसके साथ वैसा स्वाभाव नहीं रखना चाहिए यदि हम ऐसा करते हैं उसमे और हममे क्या अंतर होगा, तो कही आप कहते हैं सत्य और मानवता की रछा के लिए यदि हमे दुष्टों और शेतान का साथ देने वाले का अंत भी करना पड़े तो अवश्य करना चाहिए तो कभी आपने कहा है सभी को छमा कर सभी से अपने जैसा ही प्रेम करना चाहिए, प्रभु हमे बताये ये दो अलग अलग बाते क्यों आपने कही और उनका क्या अभिप्राय है ?



उत्तर= प्रभु बोले " ये सत्य है की दुष्टों और दुराचारियों एवं अत्याचारियों, मानव एवं प्राणी जाती का अहित करने वाले धूर्त और निर्दयी मनुष्यों के लिए उनका अंत अवश्य करना चाहिए एवं उनके जैसा आचरण करना कोई बुरी बात नहीं है और ना ही धर्म के विरुद्ध है, किन्तु किसी भी प्राणी को दण्डित करने से पूर्व ये जानना अवश्य आवश्यक है की जो प्राणी निम्न बुराइयों से ऒत प्रोत है वो अगान्तावश है अथवा ग्यानी है, यदि ऐसा घ्रणित कार्य करने वाला मनुष्य अज्ञानी है और अज्ञानतावश ऐसा कर रहा है तो निश्चित रूप से वो हमारी छमा के योग्य है, ऐसे प्राणी को छमा कर उसे अज्ञान के अन्धकार से दूर कर ज्ञान के प्रकाश से उसके जीवन को रोषित करने का प्रयन्त करना चाहिए, निश्चित ही ऐसे प्राणी की आँखों से अज्ञान का पर्दा हटेगा वो बुराई का मार्ग स्वतः ही त्याग देगा और ऐसा करने वाला प्राणी किसी भी प्रकार से दंड का भागी नहीं होगा क्योंकि जो भी उसने अब तक बुरा किया वो सब अज्ञानतावश किया कितु जैसे ही उसे ज्ञान की अनुभूति हुई उसने अपने को समस्त बुराइयों से दूर कर सत्मार्ग को अप्नाया।





प्रभु कहते हैं किन्तु जो प्राणी स्वतः की ग्यानी हो कर और अपने ज्ञान एवं शक्ति के अभिभूत हो कर सृष्टि में बुराई फेलाते हैं एवं समस्त शेतानी कार्यों में लिप्त रहते हैं, अपने स्वार्थ के लिए प्राणियों का अहित करते हैं ऐसे प्राणी निश्चित रूप से कठोर दंड के भागी होते हैं और ऐसे प्राणियों के साथ उनके जैसा व्यावहार करना गलत नहीं अपितु धर्म  नीति के अनुरूप है, ऐसे प्राणी को दंड देने का समर्थन ईश्वर द्वारा किया गया है"।      

Tuesday, 11 June 2013

माँ आर्टिकल (ma article)


माँ वो शब्द है जो एक नारी को पूर्णता प्रदान करता है। कहते हैं विवाह के पश्चात एक स्त्री पूर्ण तब तक नहीं होती जब तक की वो माँ नहीं बन जाती, किन्तु क्या किसी बालक को जन्म दे कर ही वो माँ बन्ने का गौरव हासिल कर सकती है।  यदि की किसी कारणवश वो किसी संतान को जन्म ना दे पाए तो इसका अभिप्राय क्या ये लगा लेना उचित होगा की वो स्त्री अपूर्ण है। ये भले सच एक है की एक नारी संतान को जनने के पश्चात बालकों के और भी ज्यादा करीब आ जाती है, वो उनके दुःख-सुख और अनेक प्रकार की समस्याओं को आसानी से समझ सकती है, उसमे ममता का सागर उमड़ता रहता है जो ना सिर्फ केवल अपनी ही संतानों के लिए अपितु वो सभी बालकों जो उसके बच्चों के मित्र है या जो भी उसके अपने बच्चों की उम्र के या अन्य जो भी   बालक हैं उन सबके लिए रहता है, वो उन सभी बालकों से प्रेम रखती है स्नेह रखती है इसके साथ ही वो बालकों की बातों एवं उनकी समस्याओं को पहले की अपेक्षा संतान जनने एवं माँ बनने के बाद वो अधिक समझने लगती है।



किन्तु नारी में ये गुण केवल संतान के जन्म देने के बाद ही उत्पन्न हो ये सत्य नहीं है, शाश्त्रों में भी नारी को ममता की मूरत कहा गया है किन्तु इसका अभिप्राय ये नहीं की उसमे ममता का संचार तभी हो जब वो माँ बने और एक बालक को जन्म दे, ममता का अर्थ है निःस्वार्थ सच्चा और पवित्र प्रेम जिसमे केवल देना है और बदले में कुछ भी पाने की उम्मीद नहीं है, जिसमे पवित्रता अपनापन अपार स्नेह, सुरक्षा  है वो ममता है, ये गुण नारी में केवल एक संतान को जन्म देने के बाद नहीं आते ये गुण तो उसमे यधय्पि जन्मजात होते है। और माँ स्त्री न केवल अपने जन्म दिए बच्चों की बनती है यदि वो चाहे तो कई बेघर और लाचार अनाथ बच्चों की माँ बन कर उनका सहारा बन कर उन्हें अपना मात्रत्व दे कर उनकी जीवन में माँ की कमी को पूर्ण कर सकती है, कहते हैं एक बच्चे को ज़िन्दगी में सबसे अधिक आवशकता माँ की होती है क्योंकि एक बालक माँ के गर्भ से ले कर दुनिया में आने तक और जब तक उसमे पूर्ण रूप से समझ, आत्मविश्वाश और आत्मनिर्भरता ना आये माँ के साथ की जरुरत महसूस करता है, हालाकि माँ की जरुरत  उम्र भर रहती है मनुष्य को किन्तु जब मनुष्य ऊपर बतायी गयी इन  सब चीजे को पा लेता है तब उसे माँ इन सब वाश्तुओं के आगे छोटी लगने लगती है, ऐसे लोग माँ के महत्व से अनजान होते है।


माँ की आवश्यकता जितनी मनुष्य को होती है उतनी ही आवश्यकता पशु-पक्षियों एवं जीवों को होती है। हमने यहाँ पे इस विषय में एक कहानी भी लिखी थी "पौराणिक कथा" ( http://mystories028.blogspot.in/2013/01/pauranik-katha.html) जो पशु-पक्षियों का मानव के प्रति एवं मानव और माँ के  प्रेम को उजागर करती है की किस प्रकार एक साधू-साध्वी अपने वन के पशु-पक्षियों को अपने बालक मान कर उनका पालन पोषण करते थे और वो जीव भी उन्हें अपने सगे माता-पिता मान कर उसने असीम प्रेम रखते थे। 


दोस्तों माँ दुनिया में एक ऐसा विषय है जिसके बारे में जितना कहा जाए उतना कम है, दुनिया में कही भी आप रहे और किसी भी जीव को आप देखे हर जीव यदि वो जीवित है तो उसे माँ आवश्यकता हमेशा रहती है। 

दोस्तों मेरी ही अपनी एक आप बीती है जिसे आपसे शेयर करने का मेरा दिल कर रहा है, वैसे तो मेरी अभी तक शादी नहीं हुई और मुझे बच्चों से वैसे तो दूर रहना ही अच्छा लगता है हाँ ये बात और है की बच्चे मुझे बहुत पसंद करते हैं, वेल ये बात और है पर अब हम आपको अपनी एक आप बीती बताते हैं की किसी को पा कर हमने पहली बार अपने अन्दर मातृत्व के भाव को अनुभव किया था, ये बात है २७ अप्रेल सन २ ० ० ० की,  २ ८ अप्रेल को मेरा जन्म दिन था और मेरी विश थी मम्मी पापा से की मुझे डौगी दिया जाए जन्मदिन के उपहार में, वेल दोस्तों गॉड ने मेरी ये विश सुन ली, मेरे जन्मदिन से ठीक एक दिन पहले हमारे घर २ बहुत ही प्यारे डौगी पापा ले कर आ गए और उन्हें मेरा जन्मदिन का उपहार बता कर मुझे दे दिया, पर उन्हें देख कर मैं और घर के अन्य सदस्य थोडा हेरान थे क्योंकि ये डौगी तो सिर्फ ७ दिन के थे और उनका बिना माँ के पल पान बड़ा ही मुश्किल था, वेल हमे लगा की शायद इन्हें इनकी माँ के पास अब छोड़ के आना पड़ेगा और पापा ने हमे सिर्फ मन रखने के लिए इन्हें दिया है, पर हमारी मम्मी ने हिम्मत दी और कहा क्यों नहीं ये पल सकते, जब तुम्हे हम पाल सकते हैं तो इन्हें क्यों नहीं, बस फिर क्या था उनके मार्ग दर्शन से(चुकी हमारी मम्मी का आँखों का ऑपरेशन हुआ था इस्ल्लिये वो खुद उनकी देख भाल करने में असमर्थ थी ) हमने इनकी परवरिश शुरू की, दोस्तों अपने इन पेट्स की देखभाल करते हुए मुझे पहली बार अहसास हुआ माँ का, मैंने इन पेट्स में अपने बच्चों को अनुभव किया और अहसास हुआ मुझे की एक स्त्री केवल किसी बालक को जन्म दे कर या फिर किसी मनुष्य के बच्चे को गोद ले कर ही माँ नहीं बन सकती अपितु उसमे तो ये गुण जन्मजात होते हैं और माँ तो एक स्त्री ऐसे ही किसी मासूम पशु-पक्षी को अपने पास रख और उसका ख्याल रख कर भी बन सकती है, जैसा वो इन्हें अपना बालक समझ कर इनका ख्याल रखेगी वैसे ही ये भी अपनी सगी माँ समझ कर उसका ख्याल रखेगे। 


दोस्तों मेरे पेट्स ने ना सिर्फ मेरा बल्कि हमारे पूरे परिवार का ख्याल रखा और हमेशा हमारे दुःख-सुख में साथ रहे, २ ० सितम्बर २ ० १ १  की रात हमारे एक बच्चे की मृत्यु हो गयी किन्तु अभी भी वो जीवित है हमारे दिल में और  दुसरे   बच्चे की भी मृत्यु  पहले की मिर्त्यु के २ साल २ दिन बाद  लेकिन वो आज भी  है हमारे पास  एक याद बन कर और एक कर,  ये ही अहसास मुझे  हर पल  उनकी माँ होने का अहसास कराता है इसके साथ ही समस्त पशु-पक्षियों में भी अपने बच्चो की ही झलक दिखा कर उनकी भी माँ होने का अहसास । 


माँ वो अहसास है जो किसी को जन्म देने से नहीं अपितु खुद ही किसी को अपने करीब आने से खुद ही दिल से निकल कर उसपे लुटने को तैयार हो जाता है, दुनिया में सबसे हसीं और प्यारा अहसास है माँ का जिसे पाने के लिए देवता भी ना जाने कितने रूप लेते है। 

Saturday, 8 June 2013

फरेब का ही एक नाम है आज प्यार

"फरेब का ही एक नाम है आज प्यार, खुद के साथ ही की गयी बेवफाई का नाम है आज प्यार, दुनिया में पाए जाने वाले हर धोखे का  नाम है आज प्यार, अश्कों के तोहफे मिलने का ही नाम है आज प्यार, बेवज़ह दर्द मिलने का  ही नाम है आज प्यार, तनहाई में ज़िन्दगी बिताने का  ही नाम है आज प्यार, और क्या बताऊ तुम्हे मैं इश्क के बारे में, बेगुनाह हो कर भी सज़ा पाने का नाम है  अब प्यार, किसी पर ज़िन्दगी लुटा कर खुद अकेले रह जाने ही नाम है आज प्यार.."

अनहोनी घटनाएं भाग-२(anhoni ghatnaaye part-2)


नकास्कार दोस्तों आज हम हाज़िर हैं अपने इस लेख जिसका नाम है अनहोनी घटनाएं जिसमे आपको हम उन घटनाओं के विषय में बताएँगे जो सत्य तो है किन्तु उने सत्य ठहराने का हमारे पास कोई प्रमाण नहीं है, हालाकि अपने इस लेख मैं हमने अभी किसी और की ऐसी घटनाओ को शामिल नहीं किया है किसी ख़ास वज़ह से किन्तु अपने इस लेख में हम फिर आपको वो सत्य बताने जा रहे हैं जो हमारे साथ बीता है और जो पूर्ण रूप से सत्य है हाँ ये बात और है की उसे सत्य सिद्ध करने के लिए हमारे पास कोई प्रमाण नहीं है किन्तु अगर होता कोई प्रमाण तो वो घटनाएं अनहोनी ही क्यों होति।



हमने सुना है की यदि कोई प्राणी अपनी देह त्यागता है तो २४ घंटे के भीतर उस प्राणी की आत्मा अपने प्रियेजन और अपने उस भोतिक शरीर को देखने अवश्य आती है की उसके शरीर का लोग क्या कर रहे हैं उसके जाने के बाद एवं उसके प्रियेजन उसे याद भी कर रहे हैं या नहीं । पहले हमे इन सब पर यकीं नहीं था, इन सब बातों को हम केवल अपना मन बहला लेने के लिए ही  पड़ते या फिर सुनते थे या फिर टीवी  पे या फिर किसी मूवी पे इस टाइम पास करने के मकसद से ही हम उसे देखते हैं पर ये सब सत्य होता है ऐसा यकीं नहीं रखते थे। पर तकरीबन २ साल पहले ऐसा कुछ हमारे साथ हुआ की हमे यकीं हो चला की जैसे शाश्त्रों में लिखा है की आत्मा २४ घंटे के भीतर अपने द्वारा त्यागे गए भोतिक शरीर को देखने एवं अपने प्रियेजन से मिलने आती है ये सत्य है।


वैसे यहाँ हम पाठकों को बता दे की हम मनोविज्ञान के शिकाशार्थी  रह चुके हैं और इसलिए हमे ये पता है की दिमागी बीमारी क्या होती और उसके क्या लक्षण होते हैं या फिर वहम क्या होता है क्योंकि हमारे इस आर्टिकल को  पड़ने के बाद बहुत से लोग ये कहेंगे की जो कुछ  हमने देखा और महसूस किया वो  वहम था हमारा  जो किसी अपने प्रियेजन के जाने के बाद किसी को भी हो सकता है, किन्तु जो हमने  देखा और महसूस किया वो  हमारा वहम नहीं था अपितु वो सच था जो हम आपसे आज शेयर करना चाहते है।


२० सितम्बर २०११ की सुबह ८:३० हमारी ११ साल की  बच्ची  स्वीटी  जिसकी  किडनी की बीमारी की वज़ह से मौत हो गयी, हम सब बहुत दुखी थे, पूरा परिवार उसके जाने के गम में बेसुध था, २० तारीख को तो जैसे हम मनहूस ही मान रहे थे क्यों की इस दिन हमे छोड़ कर हमारी बच्ची जो हमे चली गयी थे, मैं आपको बता दू की उसका जन्म भी २० तारीख हो ही हुआ था पर २० अप्रेल सन २ ० ० ०, खेर बात २१ सितम्बर सन २ ० १ १ के सुबह ४:३ ० की है, हम सब सोये हुए थे और एक ही कमरे में पूरा परिवार लेटा  हुआ था, कमरे की लाइट भी उस दिन हमने बंद नहीं की थी, तभी सुबह ४:३ ० बजे अचानक मेरी नींद टूट गयी और मैंने देखा की हमारी बच्ची ठीक मेरे बगल में बैठी है, दिखने में वो कुछ उदास सी लग रही थी जैसे हमसे जुदा होने का गम उसे भी हो, मुझे अपनी आँखों पर यकीं नहीं हुआ, मैंने इसे समझने के लिए कुछ वक्त लिया और तकरीबन ५ मिनट्स तक उसे देखा फिर मुझसे रहा नहीं गया और मेरे मुह से निकल ही पड़ा की बच्ची तू वापस आ गयी और ये कहते ही मैंने उसे अपने गले लगाने की जैसे ही कोशिश की वो जाने कहाँ गायब हो गयी और उसके बाद वो मुझे अभी तक कही नज़र नहीं आई(सुबह ४:३ ०  बजे की विषय में भी पाठकों  को मैं यहाँ बता दू की जब वो आखिरी साँसे ले रही थी वो उससे सबसे ज्यादा तकलीफ इसी समय से उसे शुरू हुई थी और हमे पता चल गया था की अब वो कुछ ही समय की मेहमान है और उसके ठीक २ ४ घंटे के भीतर वो मुझे ठीक इसी समय  दिखाई दी ), दोस्तों जब वो दुनिया छोड़ कर गयी थी वो पित्र पक्ष के दिन थे और इसी वज़ह से मैंने जब तक ये दिन रहे उसके नाम का पहला खाने का निवाला उसके नाम से निकालना शुरू किया शायद ही कोई यकीं करे जैसे ही वो निवाला निकाल कर हम उसे रखते वैसे ही कुछ ही देर में वो गायब हो जाता और हम सोचते की वो ही इसे खा कर गयी है किन्तु जैसे ही पित्र पक्ष के दिन समाप्त हुए उसके बाद हम उसका खाने का निवाला रखते वो वैसे ही रहता ।


दोस्तों ये वो घटना है जो किसी और के साथ नहीं बल्कि हमारे साथ घटी और जो पूरी तरह से सत्य है और हामरे प्राचीन धार्मिक ग्रंथों की बातों और आत्मा और परमात्मा की बातों की सत्य सिद्ध करती है, आगे आपकी मर्ज़ी आप इसे माने या ना माने।  





--
Thanks and Regards
 *****Archana*****

Thursday, 6 June 2013

परंपरा, व्यवस्था और नारी-आर्टिकल (parampara, vyavshtha aur naari- article)

स्त्री कभी पत्नी बन कर तो कभी बेटी, बहन, माँ  आदि बनकर अनेक रिश्तों के साथ जुड़ कर हमेशा से ही पुरुष के साथ उसके हर कर्म में उसकी सहयोगिनी बन कर रही है, सदियों से ही स्त्री पुरुष के साथ उसके दुःख-सुख में बराबर की भागीदार रही है, उसके साथ हर कदम पर कंधे से कन्धा मिला कर चली है नारी, पुरुष का हर मोड़ पर नारी ने साथ दिया है, जब से प्राणियों की उत्पत्ति हुई है और इस दुनिया में मनुष्य रूप में जबसे स्त्री और पुरुष आये हैं उस दौर से लेकर आज तक स्त्री ने पुरुष का हर मोड़ पर साथ दिया है बिना किसी अहं के।


पर सदियों से जिस नारी ने पुरुष के हर कदम पर साथ दिया है आज एवं बदलते सामजिक ढाँचे में उसकी अपनी छवि क्या रही है, वो खुद को कहाँ पाती है, उसका इस समाज में क्या अस्तित्व है, पुरुष क्या सोचता है उसके बारे में, कहते हैं की जब मानव इस दुनिया में आया था तब न सभ्यता हुआ करती थी और न संस्कृति, पर जैसे जैसे मानव ने अपने परिवार बढाने शुरू करे तब इसमें नेतिकता को प्रमुख मानते हुए अवं कई सारे सामजिक एवं मानव हित की भलाई हेतु कुछ सामजिक नियमों को शामिल कर लिया गया जो धीरे धीरे सभ्यता का रूप लेने लगे और वो सभ्यता बदलते वक़्त के साथ संस्कृति के रूप में विकसित होती गयि।


कहते हैं जब सामजिक नियम अपने शुरूआती चरण में थे उस वक्त स्त्री और पुरुष दोनों के हितों को ध्यान में रख कर ही इन्हें  बनाया गया था ताकि किसी का भी अहित न हो और न ही शोषण हो, किन्तु वक्त के साथ इन नियमों में परिवर्तन होने लगे और ये परिवर्तन धीरे धीरे स्त्री के खिलाफ जाने लगे।  शुरुआत में ये नारिविरुख परिवर्तन केवल कुछ ही अवश्ताओं में नारी के विरुद्ध थे किन्तु धीरे धीरे बदंलते सामजिक ढाँचे ने इन नियमों को पूरी तरह नारी के विरुद्ध कर दिया ।


आज  आलम ये है की दुनिया में हर कही और हर संप्रदाय में नारी का स्थान दोयम दर्जे का है.और उसे कही न कही किसी ना किसी रूप में अनेक प्रकार के शोषणों का शिकार होना पड़ता है, जो नियम समाज ने अपने शुरूआती दौर में बनाए थे आज का समाज उनसे एक दम उलट है और एक प्रकार से उसने पुराने नियमों की आड़ में नारी विरुद्ध नियम बना लिए है, परंपरा,व्यवश्ता के नाम पर उसने ऐसे नियम बना लिए हैं और उनमे नारी को बाँध दिया है जो पूरी तरह से नारी के विरुद्ध हैं और उनका शोषण करते है।


पर दुःख और आश्चर्य की बात है की स्त्री ने भी उसका शोषण कर रहे इन नियमों को सहज ही ग्रहण किया और उसी को अपना जीवन और अपना कर्तव्य मान कर अपना शोषण करवाती रही, उसने  अपने ही विरुद्ध बन रहे इन  नियमों के खिलाफ जाने की कोशिश नहीं की, उसने इन बदलते और उसका शोषण करने वाले सामजिक नियमों के खिलाफ कोई आवाज़ कभी बुलंद नहीं की और जिसका  नतीजा ये हुआ की नारी जिसकी आबादी पूरी दुनिया में लगभग आधी है आज एक दोयम दर्जे का जीवन जीती है या फिर मर्दों की दया पर निर्भर है, वो नारी जिसने पुरषों का आदि काल से ले कर अब तक हर मोड़ पर साथ दिया है, वो नारी जो पुरुष से ज्यादा सहनशील है, वो नारी जिससे जन्म ले कर ही पुरुष इस दुनिया में आता है आज वो ही नारी एक शोषित वर्ग बन कर रह गयी है और  पुरुष की दया पर ही वो निर्भर हो गयी है । दुनिया में परम्परा और व्यवस्था के नाम पर उसका शोषण होता है, किसी न किसी रूप में उसका इसलिए अपमान होता है क्योंकि वो एक स्त्री है, वो  निर्बल है, अपने हक़ के लिए कभी खड़ी  नहीं हो सकती, नियमों के मुताबिक़ वो अपने अधिकारों को माँगना तो दूर इस विषय में चर्चा तक नहीं कर सकती क्योंकि वो एक स्त्री है और उसे सिर्फ वैसे ही जीवन जीना है जैसे पुरुष चाहते हैं, और यही वज़ह है की    कही तो देवी मान कर पूजा जाता है तो कही उसे अशुद्ध मान कर विभिन्न धार्मिक कृत्यों से दूर रखा जाता है और  उससे केवल उसी कार्य को करने की इच्छा की जाती है जो पुरुषों को पसंद हो, नारी की पसंद नापसंद से इस समाज को कोई लेना देना नहीं है, लेना देना है तो केवल पुरषों की पसंद से और नापसंद से, तभी तो शादी के बाद एक लड़की से ही ये उम्मीद की जाती है की वो खुद को नए परिवेश में ढाल ले खुद को, अनेक प्रकार के नियम उसपे थोप दिए जाते हैं की तुम्हे ये करना है वो नहीं, यहाँ जाना है वह नहीं, ये पहनना है वो नहीं, यहाँ बैठना है वह नहीं इत्यादि किन्तु पुरुष जैसा वो शादी से पहले था शादी के बाद भी वैसा ही है और उसे कोई विशेष बंधन नहीं है हाँ ये उसकी दया है की वो अपने पत्नी पर कितना मेहबान होता है किन्तु उसके लिए समाज में कोई नियम नहीं है जैसे वो विवाह कर के स्त्री को नहीं लाया है अपितु किसी युद्ध में जीत कर कोई निर्जीव चीज़ अपने पास ले आया हो, समाज ये यी ही नियम नारी विरुद्ध जाते हैं और उसके न सिर्फ अधिकारों का हनन करते हैं अपितु उसका अनेक प्रकार से शोषण भी करते है। 


प्रारंभिक मानव नियम एवं प्राचीन शाश्त्रोंनुसार ऐसा पता चलता है की प्राचीन मानव सभ्यता में दुनिया में कहीं भी इस प्रकार नारी विरोधी व्यवश्ता नहीं थी, उनका स्थान पुरषों के बराबर ही था एवं उन्हें हर स्तिथि में समस्त धार्मिक कृत्या करने की पूरी आज़ादी थी, किन्तु बदलते सामजिक दौर में नारी की स्तिथि निम्न से निम्न होती गयी, किन्तु सवाल ये उठता है की ऐसा क्या हो गया जो इस समाज ने नारी को इस स्तिथि में पहुचा दिया, कही ऐसा तो नहीं की पुरुष को नारी के व्यक्तिव और उसके आचार-व्यवहार से खतरा महसूस होने लगा हो और इस खतरे को कम करने या फिर सदा के लिए ही ख़त्म करने हेतु ही समाज के नियम बदलने शुरू कर दिए और स्त्री को आज इस स्तिथि में पहुचा दिया । 



किन्तु जो हालत आज सम्पूर्ण जगत में नारी की है वो अचानक ही नहीं हुई और न ही समाज के नियम ही अचानक बदले हैं, समाज के नियम न तो एकाएक बने थे और न ही एकाएक ही बदले हैं, पुरषों ने इन नियमों को स्त्री को अपने विश्वास में ले कर एवं उसे फुसला कर  और भ्रमित कर के ही इन नियमों में परिवर्तन  करे हैं, नारी जो हमेशा से ही पुरुष के साथ रही हैं, हर कदम पर उसका साथ दिया है वो उसकी कुटिल चाल को ना समझ सकी और  और उसकी बातों में आ कर इन नियमों के परिवर्तन में अनजाने में ही अपने विरुद्ध हो रहे इन नियमों की सहयोगिनी बनी और पुरषों को ये कहने का अवसर मिला की खुद नारी ऐसे नियमों का समर्थन करती है। , इस प्रकार सदियों से नारी का शोषण करने वाले नियम समाज में आज भी विधमान हैं और जो नारी को ना सिर्फ दोयम दर्ज़ा देते हैं अपितु विभिन प्रकार से उसका शोषण भी करते है।


ऐसा नहीं है की इन नियमों के बन्ने और उन्हें लागू  होने के बाद प्राचीन काल से ले कर अभी तक कोई आवाज़ बुलंद  नहीं हुई, सच तो ये है की इन नियमों के खिलाफ कई आवाज़ बुलंद हुई और जो ना सिर्फ नारी ने इन्हें बुलंद किया अपितु कई पुरुष भी इन नियमों के खिलाफ खड़े नज़र आये और उन्होंने इन नियमों का पुर्जॊर विरोध किया।   किन्तु शोषक वर्ग इतना मज़बूत हो चूका था उस वक्त तक की इन आन्दोलनो और इन क्रांतिकारी आवाजों का उस पर कोई असर नहीं हुआ अपितु इन्हें दबाने हेतु ही उसने अनेक प्रकार के कड़े नियम बना कर इस वर्ग का और भी ज्यादा शोषण करना प्रारम्भ कर दिया। 


नारी जो आज भी समाज का अति शोषित वर्ग है, कुछ लोग कहेंगे की आज की नारी प्राचीन काल की नारी की तरह नहीं है, आज वो आत्मनिर्भर है, आर्थिक आज़ादी के साथ अनेक प्रकार की आज़ादी है उसे, इसलिए आज की नारी की स्तिथि दयनीय कहाँ है, वो आत्मविश्वासी होने के साथ पूर्ण रूप से स्वतंत्र है, किन्तु ऐसा कहने वाले जरा अपने आस पास नारी की स्तिथि को देख कर और अपने हृदय पर हाथ रख कर कहे क्या वाकई में नारी आज पूर्ण रूप से स्वंत्र है, क्या अनेक प्रकार से उसका शोषण नहीं हो रहा, अगर एक लड़की शादी ना करने की इच्छा रखती है और वो बात किसी पुरुष को पता चल जाए की ये लड़की कुवारी है तो पुरुष उसका हर प्रकार से शोषण करने की कोशिश करता है, एक अकेली स्त्री अपनी ज़िन्दगी अपने हिसाब से नहीं जी सकती, अकेले कही आ या जा नहीं सकती, हर कदम पर उसे पुरुष का सहारा लेना पड़ता है लेकिन फिर भी वो सुरख्षित नहीं और इस दर के  में वो जीती है की कही उसके साथ कुछ गलत ना हो जाए और ये पुरुष अपने पुराने नियमों को बदल कर समाज में ऐसे रॉब से जीता है जैसे वो कोई भगवान् हो, खुद हो, गॉड हो और उसी ने सृष्टि बनायी और अपनी खिदमत के लिए उसने नारी नामक दासी की उत्पात्ति की जो उसकी उसकी गुलाम होने के साथ उसकी साड़ी इछाये पूरी करे और जो ना करे उसे अनेक प्रकार से प्रताड़ित किया जाए हर प्रकार से उसका शोषण किया जाए, पुरुष ने केवल खुद को नारी से श्रेष्ट दिखाने के लिए प्राचीन सामजिक नियमों को बदल ताकि उस का सदा नारी से ऊँचा स्थान रहे और वो जब चाहे जैसे चाहे नारी को दबा सके और उसका हर तरह से शोषण कर सके और नारी इसके खिलाफ कुछ न कह सके ये समझ कर की ये ही उसका नसीब है, ये ही उसकी संस्कृति और ये ही उसके समाज की सभ्यता की वो बस पुरुष को खुश करने हेतु ही उसके अनुरूप ही आचरण करे, और ये ही काररण है की  कभी धर्म के नाम पर तो कभी समाज के नाम पर तो कभी सभ्यता और संस्कृति के नाम पर आज भी उसका शोषण हो रहा है, और अनेक प्रकार से नारी को पुरुष  नीचा दिखा कर उसका शोषण कर रहा है।  


पर मेरा सवाल है की आखिर ऐसा कब तक होगा, क्या कोई मसीहा आएगा जो नारी को इस दयनीय स्तिथि से मुक्त कराएगा या फिर कोई जादूगर आएगा जो नारी को इस स्तिथि से उबारेगा, सच तो ये है की ना तो कोई मसीहा आएगा और ना ही कोई जादूगर आएगा जो नारी को उसका अधिकार दिलाएगा और उसे एक दोयम दर्जे के इस शोषित वर्ग से मुक्ति दिलाएगा, नारी को इससे मुक्ति तभी मिल सकेगी जब दुनिया में पायी जाने वाली इस नारी नामक जीव को खुद ही अपने खिलाफ बने इन नियमों को तोड़ने के लिए कमर कसने होगी, उसका किसी भी प्रकार से शोषण करने वाले के खिलाफ उसे मोर्चा खोलना होगा चाहे वो अपने परिवार का ही कोई हो, दोस्त, रिश्तेदार, पडोसी जाना या फिर अनजाना जो भी किसी भी प्रकार उसका शोषण करता है, उसे दोयम दर्ज़ा देता है उसके खिलाफ नारी को खड़ा होना होगा, मोर्चा खोलना होगा और अपना अधिकार प्राप्त करने हेतु आन्दोलन करना होगा, यदि आज की नारी खुद को सचमुच में आधुनिक कहती है तो उसे यक़ीनन इन प्राचीन नियमों के खिलाफ मोर्चा खोलना होगा और ना सिर्फ अपने लिए अपितु जिस भी स्त्री को ऐसे शोषित वो देखे उसके हक़ के लिए समस्त नारी जाती एकत्रित हो कर आन्दोलन प्रारंभ  करने होंगे  और अपने एवं हर नारी को उसका उचित, सम्मानित एवं श्रेष्ट स्थान दिलाने हेतु कार्य में सहयोग करना होगा , यदि नारी इस इस प्राचीन तथ्य को झुट्लाकर की "औरत ही औरत की दुश्मन होती है " समस्त नारी एक हो जाए और प्राचीन नारी विरोधी नियमों का विरोध कर अपने अधिकारों ,उचित एवं श्रेष्ट स्थान को समाज से अपने लिए पाने हेतु संघर्ष करे तो निश्चित रूप से एक दिन नारी फिर से उस स्थान को समाज में हासिल कर सकती है जो आदिकाल में उसे प्राप्त था ।।