Sunday, 29 January 2012

Sad Shayri..q dard har kisi se hmne paya h....

Jise apna samjha ussi ne thukraya h, jo aaya dil k karib dard ussi se hmne paya h, hmne to jaan tak luta di unke liye, par hmne sirf unse fareb paya h, hmne diya saath unka har modd par, chahe chale gaye wo hmara dil tod kar, par zindgi ko meri h ye shikayat, meri achhaiyo k bdle q  mere saath aaj khalipan aur tanhaiyo ka saaya h,maine to har pal di sabko khushi par mere hisse me sirf gam q aaya h, q har kisi ne mujhe yu thukraya hai, q dard har kisi se hmne paya h....

Sad Shayri

Ek din dur tumse hm chale jaynge, aankho me aansu hm tumhe de jaynge, jitna satate ho aaj hme tum, kal tumhe tanha karke chhod jaynge, aise honge khafa tumse, tum laakh manaoge fir bhi na tumse manege, yaad me hmari har pal tadpte rahoge tum, har waqt sirf hme pukarte rahoge tum, par hm chhod tumhe itni dur nikal jaynge ki sun kar tumhari pukaar bhi na fir kabhi laut kar paas tumhare aaynge.......

Saturday, 28 January 2012

Happy repubic day

+*+*HAPPY+*+*

+*+REPUBLIC*+*

+*+*DAY+*+*

*+*+MY DEAR*+*+

*+*+FRIENDS*+*+

fariyad

Hai fariyad rab se hmari, mile tumhe khushya dherr sari, kabi na toote dil tumhara, juda na ho tumse koi apna pyara, kabi na nikle tumhari aankh se paani, dur rakhe rab tumse har dard har pareshani, ye fariyad hai hmari zindagi bhar bas tumhe khushiyo ki saugat mile, jeevan bhar apno ka har lamha saath mile, kat jaye zindagi ka har pal tumhari yu hi haste haste, hai ye fariyad bas rab se hmari.....

Zindagi meri ek kori kitab h...................

Zindagi meri ek kori kitab h, jisme panne behisab h, ajib ittifak h, iska harek panna q cora abi tak h, socha tha khushiyo ki shyaahi se bhar du har ek panna iska, par namanjur tha kismat ko, jab b likhna shuru kiya panno pe, ashko ki ladi ne isse har waqt bhigoya h, dard ki tees ne har panne pe khushiyo ki shyaahi se likhe har shabd ko dhoya h, jab jab chahat ki sambhalne ki, jab jab koshish ki kuch haasil karne ki, kadeer ki takhti ne har dafa isse mitaya hai, bas ye hi waza h jisse meri zindgi ki kitab ka har panna abi tak cora h, hain anek khwaab zahan mein, dil chahta hai likhna unhe iss zindagi ki kitaab mein, bhar dena chahata hai har ek panna apne khwaabon ko poora karne ki uss sachhai wali shyaahi se, par shayad nahi hai pasand kisamt ko meri ye tabi to itne koshishon k baad bhi meri zindagi ka har ek panna bhi tak kora hai, aur dil bas ye hi kahta hai Zindagi meri ek kori kitab h....

Friday, 27 January 2012

Sad Shayri


Zindagi k har modd pe thukrate rahe hm, zindagi k har modd pe dhoke khaate rahe hm, koshish kari muskurane ki jb tab hi aansuo k tohfe paate gaye hm, udne ki chahat thi khule aasman me pankshi ki tarah par aisee lagi thokar hme aasman me udna to dur jamin pe chalne se bhi laachar huye hm, waqt aur haalat se aise huye mazbur aaj ki gam aur dard k saath jeene ko laachar huye hm..

Thursday, 26 January 2012

Romantic Shayari

 hai dua hmari, mile tumko khushiya saari, door rahe saare gam zindagi se tumhari, na ho koi  dard  kabhi raah mein tumhari, mehakta rhe gulistaan tera aur mehakti rahe bas gali tumhari, kabhi kam na ho chehre se muskaan tumhari, ye duaa hai !!!!!!!!!!hmari................

Wednesday, 25 January 2012

Happy repubic day

Purab se pashchim tak, uttar se dakhshin tak, poore desh me ek paigan khushi ka aaya, sabne bhula kr aapas k bair ye madhur geet gaya "aaj hmara gadtantra divas h aaya, taan kar gaurav se apna seena har hindustani ne duniya btaya aaj hmara rashtriya tyohaar h aaya, hmara gadtantra divas h aaya".... Happy repubic day.

दिल के पास हो तुम

नज़रो से दूर सही पर दिल के पास हो तुम, दूर रह कर भी कितने ख़ास हो तुम,हो जाने कहाँ तुम इस अजनबी जहाँ में, पर क्यों लगता है मुझे की मेरे आस पास हो तुम, मेरी हर धड़कन में बसते हो सिर्फ तुम,मेरी साँसों में समाते हो बस तुम, क्या बताऊ तुम्हे, मेरी हर ख़ुशी के साथ हो तुम,मेरी ज़िन्दगी का अहसास हो हो सिर्फ तुम। 

तू बहुत याद आता है।

तेरे साथ बिता हर  पल बहुत  याद आता है, तेरे साथ जिया हर लम्हा बहुत याद आता है, है
तू आज दूर मुझसे होकर  शायद यु बेखबर, पर ज़िन्दगी के हर मोड़ पे मुझे तू बहुत याद आता है।

एक मुसाफिर हूँ मैं

 एक मुसाफिर हूँ मैं रास्तों से बेखबर हूँ मैं, क्या है मंजिल मेरी और किस ऒर जाना है मुझे इन सबसे अनजान हूँ मै,  
वक्त के तूफानों से हार हुआ एक इंसान हूँ मैं, मिली मुझे हर पल बेगुअनाह होने की सजा, आज अपनी ही नज़रों में गुनेहगार हूँ मैं,
वक्त के साथ अपनाया मुझे जहां ने और वक्त के साथ ही ठुकराया मुझे हर इंसान ने , वक्त और इंसान के हाथ का  क्या खिलौना हूँ मैं  है ये सवाल मेरा खुद मुझसे, एक वक्त था जब हौसला था ज़िन्दगी जीने का,
ज़ज्बा था दुनिया जीत लेने का,और आज फैसला है खुद को खुद से ही जुदा कर लेने का,मंजिलों और रास्ते से अनजान मेरे कदम बड़ते जा रहे  हैं,,
काश मिल जाए कोई सही रास्ता मुझे जो ले जा सके मंजिल तक मुझे,आज सागर की उस लहर की तरह हु मैं जो साहिल से टकरा कर वापस सागर में लौट आती है, नहीं मिलती चाह कर भी मंजिल उसे, 
उन्ही लहरों की तरह हूँ मैं जो मंजिल तक पहुच कर भी उसे पा न सका 
आज भूला हुआ एक किनारा ढूँढता हूँ मैं ,ज़िन्दगी ढूँढ़ते हुए मौत को गले लगाने के ही  बस  बहाने ढूँढता  हूँ मैं, सूनी सूनी राहों पर भटकता हुआ एक राही हूँ मैं, रास्तों से बेखबर एक मुसाफिर हूँ मै।।

dil me rahte h..

Todte h aise dil wo mera jaise sheesha todte h, tod kr dil mera wo baht kush hote h, dukha kr dil mera wo baht haste h, aur hm ye seh kr bhi chup rahte h, chupchap har dard seh lete h, h pta hme jitna dil tod kr wo khush rahne ka daava krte h, mann hi mann wo bhi bht rote h, tabi to hm dono ek dusre k dil me rahte h..

Sunday, 22 January 2012

sad shayri

waqt k saath itne mazboor hote chale gaye hum, pal pal aise bikharte rahe jaise tooti hui mala se moti bikharte hain, sambhlana chaha jab jab tab tab hi gamo mein doobte gaye hum, jitne kari koshishe khush rahne ki utne hi dard har waqt sahte rahe hum....

A Paninful Love Story

A true Love Story: ek ladki ek ladke se bht pyar karti thi par usse khne me ye drti thi, ek din usne himmt dikhai, apne dil ki baat usse sunai, wo ladka pahle b kisi k pyar me kha chuka tha dhoka, jab suni uss ladki ki baat to fir usne socha ek din ye b mera dil tod k kisi aur k saath chali jaygi, de kr gam bewafai k zindgibhar rulaygi, usne uss ladki k saamne rakhi ek shart, usne kaha jiss raat chaand ki jagah suraj mujhe dega muje dikhai, uss din mai ho jaunga tera, agli din ki wo raat amavas ki thi, kaali raat, har tarf sannata, par achank roshni lagi uss ladke ko lagi bahar dikhne jaise suraj utar aaya ho dharti pe, wo ladka ghar se bahar aaya to dekh waha ka manzar heran hua, khud ko aag ki chaadar me samet wo ladki waha khadi thi, wo boli aaj to raat me b suraj nikal aaya h, kya ab tum muje chahoge, uss ladke ne han me sarr hila diya, ye dekh kr wo ladki hmesha k liye maut ki nind so gayi, aur fir uss ladke ne b uske pyar k khatir zindgi bhar shadi nhi ki..

money iz vry imp..

Kaash mile hme b kabi koi dil dene wala, kaash mile hme b kabi koi hmpe marne wala, par ae khuda ye fariyaad hai tujhse wo ho baht paise wala, kyu ki bin paiso na kaise kategi zindagi aur kaise hoga guzara, kyu ki sirf pyar se pett to nahi hai bhar paayga,
so for love money iz vry imp..

mujhe bhi apna bna lo....

Chaahato ka silsila kuch aisa bana lo, jisse karo mohbbat usse apna bna lo, apni chahat ko ek mishaal bna lo, karo wafa-e- mohbbat unse iss kadar jab dekhe khuda b tumhe to kahe mujhse mohabbat karke mujhe bhi apna bna lo....

ishk ka asar mujhpe hua hai....


Jane kya muje ye hua hai, ye dil kisko pukar raha hai, ye meri dhadkane kiska naam baar baar pukarti hain, kyu hu mai bechain iss kadar, kyu ruthi nindiya meri aankhiyo se, kise dhundti hai har waqt meri ye nazre, ae khuda muje ye kya hua hai, hai ye kisne kiya jadu mujpar ya fir kisi ke ishk ka asar mujhpe hua hai...
.

Na rutho hmse ...........

Na rutho hmse na ye dil dukhao, na chhodo hme tanha na hmse dur jao, jo ruth gaye hm tumse, tum laakh bulaoge tab bhi na kahi hme paoge, tumhe bhi aise tanha chhod jaynge ek din dhundoge iss jahan me hme par beeti yaado k siwa hme kahin na dhund paoge, tod jaynge ek din hm bhi dil tumhara, tum tadpoge hmare liye par fir bhi iss jahan mei hme na kahin dekh paoge.....

Friday, 20 January 2012

unhe bhi mujhse mohabbat hogiiiiiiiii........................

socha na tha iss kadar unse yu mulakat hogi, socha na ki fir koi baat hogi, chupke se dil mein bass gaye wo, jaane kaise mann ko jachh  gaye wo, ab tak rakhi thi doori jisse jaane kaise wo hi baat ho gayiii, hme to unse mohabbat ho gayi, rahne lage dil mein mere wo, meri to har dhadkan mein bas gaye wo, meri ab har shaam unke naam ho gayi,mujhe bas unse mohabbat ho gayii, jaane wo mujhe chaahe ya na chahe, hai aitbaar mujhe ek din unhe bhi meri jarurat hogi, unhe bhi mujhse mohabbat hogiiiiiiiii........................

सोचता है मेरा ये दिल बार-बार

 सोचता है मेरा ये दिल बार-बार क्यों होता है हमे किसी अजनबी से प्यार, क्यों रहता है सिर्फ उसके लिए ही ये दिल बेकरार, क्यों होता है बस उससे ही बार-बार मिलने का इंतज़ार, क्यों कोई अजनबी ऐसे दिल में आ जाता है, 
जो कर के अपनों से दूर उसके पास ले आता है , क्यों तोड़ देते हैं रिश्ते अपनों के उस गेर के लिए ,कहते है वो की ये तो दिल का मामला है, पर अगर ये सच में  दिल का मामला है तो प्यार में पड क्यों अपनों का ही दिल तोड़ देते हैं,क्या प्यार वो उनसे नहीं करते जिनका दिल तोड़ कर उस अजनबी से मोहब्बत किया वो करते हैं,

क्यों भुला देते हैं  लोग अपनों की वो बाते जिन्होंने जाने कितने है दर्द सह कर खुशियों के पल थे  उन्हें दिए,  पर उस अजनबी के साथ को हर ख़ुशी मान कर क्यों अपनों के त्याग को भुला कर उस अजनबी के हो जाते हैं लोग ,क्यों उस अजनबी की मीठी बातो में आ कर अपनों से दूर चले जाते हैं लोग ,


क्या इसी का नाम है प्यार जो एक तरफ दिल 
का रिश्ता है कहलाता तो दूसरी तरफ है अपनों का ही दिल दुखाता ,सोचता है ये दिल मेरा बार-बार प्यार तो सुना था  कि एक नाम है  त्याग का , प्यार तो नाम है  दिलो को जोड़ने  के  एक हसीं अहसास का , 


पर क्यों ये अपनों से ही हमे ये जुदा करता है, क्यों किसी गेर को अपना बनाते हुए हमे अपनों को ही खोना पड़ता है ,

क्या  इसी का नाम प्यार है, क्या ये ही मोहब्बत का संसार है सोचता है मेरा ये दिल बार-बार क्या   इसी का नाम प्यार ।

Kaun Hoon Main

waqt ki kitaab mein apna astitva dhoondti hoon main, kaun hoon main,ek bujha huaa chirag hoon ya ek adhoora khwaab hoon main, duniya ko nahi jarurat meri kyon aaj iss kadar yu bebas hoon main, waqt ki kitaab mein apna astitva dhoonti hoon main, dekhe the khwaab maine bhi aasman chhune ke liye, socha tha maine bhi kabhi kuch haasil karne ke liye, jalta tha kabhi mere seene bhi ek chiraag ummido ka, himmat thi mujhme duniya jeet lene ki, par halaat se iss kadar haar gayi,gerro se nahi apno se main laachar huiii, tha aitbaar uss rab pe jitna, ussi k faisle se meri duniya barbaad huii, kahte hai log jo huaa achha huaa, par kya jaane wo naadan, meri to ab har khushi uss waqt ki kitaab mein dafan hai ho chuki,bujh gaya mere seene se ummido se jaltawo chirag,rah gaye meri aankho mein wo adhoore khwaab, na ab kabhi fir se koi lau uthegi aur na koi chingari mere bujhe huye diye ko fir se jala sakegi, ye khwaab jo dekhe the meri aankh ne na ho sakenge poore, ye zindagi meri bas ye sawal poochtee rahegi baar baar " kaun hoon main..............,"

Wednesday, 18 January 2012

milan

Milna hi har baar milan nhi kahlata, juda ho kar har rishta nhi toot jata, jo bante h rishte dil se dil k unhe waqt k toofano se wo rab har pal h bachata, kisi ko pa lene ka naam hi chahat nhi, kabi- kabi gam-e-judai ko jeevan bhar sehana hi pyaar h kehlata.....

प्यार


कुछ पल की ख़ुशी दे ज़िन्दगी भर रुलाता है ये प्यार , गेरो को अपना बता कर अपनों से दूरी बना लेता है ये प्यार ,
लगता है मोहब्बत करने वालो को सब कुछ है उनके लिए तो बस उनका यार, ये ही सोच कर हर  रिश्ते से दूर कर देता है ये प्यार, ज़िन्दगी का एक हसींन ख्वाब दिखा कर दिल में झूठी उम्मीद जगा  कर एक दिन दिल को तोड़ कर दूर चला जाता है 
वो यार जिससे होता प्यार बेशुमार 

Na aise rutho

Na aise rutho hmse, na aise dur jao, hai pta aapko aise hi hain hm, na hmko yu tadpao....

तकरार


छोटी छोटी तकरार से रिश्तो में नजदीकी आती है, छोटी छोटी तकरार से रिश्तो में मजबूती आती है, छोटी छोटी तकरार से रिश्तो में गहरायी आती है ,पर ना करो कभी ऐसी भी तकरार अपनों से जिसमे अक्सर तन्हाई और फिर दूरी आती है, मिल जाए आंसू उनसे ज़िन्दगी भर जुदाई के ,ऐसे भी तकरार ना करो की कभी फिर बिछड़ यु ही यार से।

tumhare dil ne h pukara muje abi kahi.....

Halki c hawa lagi abi abi, kya tumne mud kar dekha yahi kahi, ek mithi c dhun suni abi abi, kya tumne kuch kaha abi yahi, ye fizao me aaj ek ajab nasha h, kya tumhare laboon pe b mera naam aaya h, h aaj mausam kuch badla badla sa, kya tumhare dil ne h pukara muje abi kahi.....

एक कश्ती हूँ मैं


 तुफानो से घिरी एक कश्ती हूँ मैं ,अपनों के दिल में क्यों चुभती हूँ मैं ,टूटे हुए अरमानो की एक अजब तश्वीर हूँ मैं ,जाने कैसे यु मजबूर हूँ मैं, मुझे नहीं पता की जाना है मुझे कहाँ ,
बस अपने सीने में बुझे हुए चिरागों के साथ अपना हमसफर ढूँढती हूँ मैं ,मिल जाए कही जो ले चले इन तूफानों से पार मुझे ,चाहे वो मुझे इस कदर जो तोड़ कर हर बंधन बना ले मुझे वो अपना हमसफ़र बस उसी दिलबर की तलाश में हूँ मैं।

good morning

Suraj ne fir chehra chamkaya, kirno k saath h dharti pe aaya, dekho ye savera laya, chidiyo ne h raag sunaya, raag suna k muje jagaya, chhod aalas aur nindiya tyaag ye keh kar maa ne uthaya, thandi thandi hawao ne subah subah h pyaar jataya, foolo ne bikheri khushboo, khushboo ne angna mehkaya, soyi raat me har kali, soyi raat me har gali, soya tha ye aasman, aur soya tha jo ye jahan, chhipa chand jo suraj aaya, usne fir sabko jagaya, jaag savere kaam sabko jo h yaad aaya, chhod nidiya jage wo, jaag k fir bhaage wo, soye raat nind ki godd, suraj ne unko jagaya, kirno k saath ye sandesha gaya, dekho ye savera aaya....

Sunday, 15 January 2012

तेरा इंतजार है - स्टोरी


हेल्लो दोस्तों मेरा नाम  अभिषेक मित्तल है, मेरी उम्र ३५ साल है और मैं भोपाल में रहता हूँ ,  पेशे से मैं एक इतिहास कार हूँ, मुझे अक्सर काम के सिलसिले में ऐसी ऐसी जगह पे जाना पड़ता है जो काफी डरावनी पर हमारे इतिहास से जुडी होती है और वहां  की सभ्यता वहा के रहन सहन आदि की जानकारी इकठा कर के हमे एक रिपोर्ट बना के सरकार  को भेजनी पड़ती है, आज मैं अपनी ज़िन्दगी की एक ऐसी कहानी आपको बताने जा रहा हूँ जिस पर शायद ही आप यकीं कर सके, एक ऐसी दास्ताँ जिसे सिर्फ और सिर्फ मैंने ही सहा है, मेरे लिए वो  मेरी जिंदगी की एक सच्चाई है और आपके लिए एक कहानी,


            ये बात करीब आज से १ साल पहले की है, मैं अपने परिवार के साथ झाँसी घूमने गया, मेरे साथ मेरी बीवी अविन्त्का मेरा बेटा  राहुल और बेटी मिनी थे, हमने झाँसी के एक अच्छे  होटल में कमरा लिया, वैसे तो हम वह पर सिर्फ ३ दिनों के लिए ही गए थे पर वहाँ पे सब कुछ इतना जल्दी से बीता की मैं कुछ जान भी नही पाया की आखिर हो क्या रहा है और इस वज़ह से मुझे वह पर एक हफ्ता रुकना पड़ा, मैं माफ़ी चाहता हूँ अपनी बीवी अविन्त्का से और अपने बच्चो से जिन्होंने मेरी वज़ह से उस नयी जगह पर इतनी परेशानी सही,

         जिस दिन हम झाँसी पहुचे उस दिन से ही मुझे वहां बड़ा अजीब से लग लग रहा था, वैसे तो मैं एक इतीहस्कर हूँ, और ऐसी जगह पर इससे पहले कई बार गया हूँ  हाँ ये बात और है की झाँसी मैं पहली बार ही आया था, पर एक अजीब सी फीलिंग मुझे वहा हो रही थी, जैसे मैं वह पहले भी आया हूँ, यहाँ से मेरा कोई ना कोई रिश्ता है, पहले मैंने सोचा शायद मेरा ये वहम है क्यों की हमारा काम ही ऐसा है की ऐसे जगहों पे हमे जाना पड़ता है, इसलिए मुझे ऐसा लग रहा है, पर सच तो ये है की सच्चाई  इससे बिलकुल अलग थी,


          जिस दिन हम झाँसी पहुचे उस दिन बहुत थके हुए थे इसलिए कही घूमने नही गए और होटल में ही रुक कर रेस्ट किया, पर दुसरे दिन घूमने गए, वहा पे हमने झाँसी की रानी का किला देखा, वहा की कलाकृतियाँ देखि, सब कुछ देख कर एक अजीब सी फीलिंग आ रही रही जैसे ये सब मुझसे कुछ कह रही हो, मुझे कुछ याद दिलाने की कोशिश कर रही हो, वो याद दिलाने की कोशिश जो मैं भूल गया हूँ पर मेरी जिंदगी का एक अहम् हिस्सा है वो बाते पर क्या मुझे याद नहीं आ रहा है, ये सब सोच सोच कर मेरे सर में दर्द होने लगा और मैंने अवंतिका से कहा की तुम घूम लो बच्चो के साथ मैं होटल जा रहा हूँ मेरी तबियत ठीक नहीं है, पहले तो उसने कहा की वो भी चलती है मेरे साथ पर मैंने कहा की बच्चे यहाँ एन्जॉय करने आये  है उन्हें अच्छा नही लगेगा तुम और बच्चे घूम लो मेरी फिक्र मत करो मैं ठीक हूँ, फिर उन्हें छोड़ कर मैं होटल में आ गया,

          होटल में आ कर मेरी आँख  लग गयी और मैं सो गया, सपने में एक ऐसी जगह गया जहाँ पे सन १८५७ के वक़्त गरीब सेनिको के घर हुआ करते थे, वो सेनिक गरीब होते हुए भी बड़े ही देश भक्त थे, हिन्दुस्तान को आज़ाद करने का उनका मात्र एक मकसद था, ख्वाब में देखा मैंने कुछ अँगरेज़ उन्हें पैसे का लालच दे कर उन्हें अपने में मिलाने की कोशिश कर रहे हैं पर वो सेनिक पैसो लालच से दूर अपने देश और अपनी झाँसी के लिए मरने मिटने को तैयार है, उन्हें गम नहीं की वो गरीब है बस जूनून है तो आज़ादी दिलाने का, मैंने देखा की हर तरफ बस आज़ादी के नारे लग रहे है, अंग्रेजो के खिलाफ हर हिन्दुसातानी का खून खुला हुआ है,


           फिर मैंने देखा सेनिको ने ऐलान कर दिया है की अंग्रजो पर इस दिन वो हमला कर देंगे और उन्हें यहाँ से उखाड़ फेंकेंगे,  समस्त सेनिक और उनके परिवार इसमें इसकी तयारी में जुट गए,  फिर मैंने देखा एक लड़की जिसकी उम्र लगभग १५, १६ साल की होगी  दौड़ते हुई और चिल्लाती हुई  आ रही है, वो क्या कह रही है वो मुझे समझ में नही आया मैं समझने की कोशिश करने लगा पर इतने में मुझे लगा की कोई मेरे ऊपर चढ़ आया है और मुझे जोर जोर से हिला रहा है, मेरी आँख खुली और देखा की मेरी ३ साल की बेटी मेरे पेट पे बैठ कर मुझे हिला हिला कर जगाने की कोशिश कर रही है और सामने मेरी बीवी और मेरा बेटा खड़े हैं, उन्हें देख कर मैंने कहा की आ गए तुम लोग, देख लिया किला, कैसा लगा और फिर वो भी मेरे पास बैठ कर किले की बातें बताने लगे, पर मेरा ध्यान तो उस सपने में था, ऐसा लग रहा था जैसे ये सपना ना हो कर मेरी जिंदगी की कोई घटना है जिससे मैं अब तक अनजान हूँ,


              अब आया तीसरा और आखिरी दिन, अगले दिन हमे वापस अपने घर भोपाल के लिए निकलना था, और मेरी बीवी  और  बच्चे चाहते थे की वो यहाँ का मार्केट घूमे और शोपिंग करे ताकि घर पे सब को  दिखाए  की वो यहाँ से क्या क्या ले कर और खरीद कर आये हैं, पर कभी  कभी जो हम नहीं चाहते वो हो जाता है, मेरी अचानक तबियत ख़राब हो गयी, वो इतनी बिगड़ गयी की मुझे झाँसी में एक हॉस्पिटल में admit  करवाना पड़ा, मुझे ठीक होने में २ दिन और लग गए, ठीक हो गए जैसे ही मैं अपने होटल में आया और बेड लेता मुझे नींद आने लगी, मेरी बीवी ने कहा की हमे अब कल रात तक निकलना है तुम रेस्ट करो  बच्चे बहुत जिद कर रहे थे तुम्हारे हस्पताल में ही एडमिट होने के दौरान ही शोपिंग की  लेकिन तब मैंने उन्हें मना कर दिया लेकिन अगर तुम कुछ अच्छा महसूस कर रहे हो तो मैं और बच्चे जरा  नज़दीक के ही मार्केट से कुछ शोपिंग कर लाते हैं, मैंने  उससे कहा मैं अब ठीक हूँ और तरह उन्हें जाने की इजाजत दे दी, और उनके जाने के बाद  मैं  भी सो गया, पर जैसे ही मैं गहरी नींद में गया वो ही सपना मुझे फिर से दिखाई दिया जो पहले दिन दिखा था,वो ही लड़की चिल्लाती हुई आ रही है फिर वो एक लड़के के पास आ कर रुक जाती है जिसकी उम्र लगभग १८ साल की होगी, उससे बोली तुम्हे पता है है हम लोगों ने अंग्रेजो पे हमले का वक़्त तय कर लिया है, सब कुछ पूरी तरह से तैयार है, क्या तुम इसके लिए तैयार हो पूरी तरह, वो लड़का बोला हाँ मैं भी तैयार हूँ, इतना कह कर वो लड़की उसके गले लग गे और बोली पता नही हम जीतेंगे या नही, वो लड़का बोला हम जरूर जीतेंगे, वक़्त के साथ वो पल आखिर आ ही गया जब अंग्रेजो पे हिदुसातानी हमला करने वाले थे, वो लड़की फिर उस लड़के से मिली और कहा जल्दी ही घर वापस आना, वो लड़का बोला तुम फिक्र मत करो मैं जल्दी ही वापस आऊंगा और साथ में विजयी ध्वज हाथ में ले कर आऊंगा, उसके बाद हम शादी कर के अपना घर बसा लेंगे, हमारी संताने एक गुलाम की ज़िन्दगी नहीं जियेंगी जैसे हमने जी है, वो लड़की बोली मुझे इस दिन का इंतज़ार रहेगा, तुम जल्दी आना मैं तुम्हरा हर पल इंतज़ार करुँगी पर तुम जरूर आना, ये कह कर वो उस लड़के के गले लग गयी उसके बाद वो लड़का इस युद्ध के लिए निकल पड़ा,

        उस लड़ाई में हिन्दुस्तानियों की जीत हुई पर वो लड़का घर वापस नहीं आया, पर वो लड़की उसका इंतज़ार करती रही, उसे विश्वास था की एक दिन वो जरूर आयगा उसने वादा  किया था, वो अपना वादा  नही तोड़ सकता वो आयगा, दिन बीते, बीते महीने और बीते साल और फिर सालो साल, वो लड़का नहीं लौटा, वो लड़की भी उसका इतंजार करते करते थक गयी और उसका शरीर जो वक़्त की मार से बूडा हो गया था उसका अब साथ छोड़ने को बैचेन था, और एक दिन साथ छोड़ गया वो भी उसका, पर इसके बाद भी उसकी आत्मा उस लड़के का इंतज़ार करती रही, उसे भरोसा था की एक दिन वो जरूर आयगा और अपना अधूरा वादा पूरा करेगा,

             

          इस ख्वाब के बाद मेरी नींद टूट गयी और एक अजीब सी फीलिंग होने लगी मन में, सोचने लगा मैं क्या सपना है, बार बार मुझे ये सपना अकेले में क्यों आता है, आखिर सच क्या है, क्यों मुझे यहाँ पे आ कर कुछ जाना पहचाना सा लगता है, क्यों लगता है की मेरी कोई कहानी यहाँ से जुडी है, मेरे मनन में सच जाने की ख्वाइश हुई, कुछ देर बाद मेरी बीवी और बच्चे भी आ गए वो लोग अगले दिन जाने की तयारी में लगे थे और मैं सोच रहा है की कैसे कुछ दिन और मैं यहाँ पर रुकू, पर समय की गोद में क्या छिपा है  कोई नही जानता,  रात को जब सब सो रहे थे तो मुझे किसी लड़की के पुकारने की आवाज़ आई, मैं भी सो रहा था पर मेरी नींद खुल गयी, मैं देखा मेरी बीवी और बच्चे तो आराम से सो रहे हैं, कोई लड़की मुझे पुकार रही है और बहार आने को कह रही है, मैंने इधर उधर देखा पर कोई नज़र नहीं आया, फिर मैंने अपने कमरे का दरवाज़ा खोला और आवज़ की दिशा में चलने लगा, चलते चलते मुझे एक खंडर दिखाई दिया, जो देखने में लग रहा था की कभी किसी की यहाँ पे बस्ती रही होगी, उन खंडरो में एक लड़की खड़ी  हुई थी, उसने अपना मुह दूसरी तरफ किया हुआ था मुझे पुकार रही थी, उसके पास आ कर मैंने कहा क्या तुम ही मुझे बुला रही हो, क्या तुम मुझे जानती हो, और इतनी रात क्यों तुमने मुझे यहाँ बुलाया, वो लकड़ी मुड़ी और मेरी तरफ  तरफ आई, मैं देख कर हेरान रह गया,ये तो वो ही लड़की है जो अक्सर मुझे उस सपने में दिखती थी, मैंने कहा तुम, उसने कहा तुमने मुझे पहचान लिया, मैंने कहा नहीं पर तुम मुझे सपने में दिखाई दी थी, वो बोली वो सपना मैंने ही तुम्हे दिखाया था ताकि तुम्हे वो सब कुछ  कुछ याद आ सके जिसे वक्त के साथ और बदलते रिश्तो के साथ तुम भूल चुके हो, मैंने कहा मतलब तो वो  मेरे माथे पर हाथ रख कर कुछ बुदबुदाई, मुझे सब कुछ याद आ गया, वो लड़का मैं ही था, मेरा नाम विजय था और उस लड़की का नाम आभा था, याद आया मुझे हम दोनों एक दुसरे से कितना प्यार करते थे  और शादी करना चाहते थे किन्तु  दोनों ने तब तक शादी ना करने का फैसला किया था जब तक देश इन अंग्रेजो की गुलामी से मुक्त नही हो जाता, आभा ने कहा मुझसे  मिलने आने में तुमने कितना वक़्त लगा दिया , अपनी आभा के वापस आने में क्यों इतना वक्त तुमने लगा दिया , मैंने कितना तुम्हारा इंतज़ार किया, मैंने कहा मुझे माफ़ कर दो आभा, उस लड़ाई में हमने जीत तो हासिल की पर मैं खुद को बचा नही पाया, लड़ते लड़ते मेरी जान मेरा साथ छोड़ गयी, पर तुमसे वादा किया था मैंने  लौट आने का देर से ही सही अब मैं आ गया हूँ और अब मैं तुम्हे छोड़ कर कभी कही नहीं जाऊँगा, इसके बाद मैं आभा के साथ रहा, उसके साथ ख़ुशी के कुछ पल  बिताये, पर फिर मेरी पत्नी अविन्त्का वहा पे पुलिश  को ले कर मुझे ढूँढती  हुई वहा पहुची, उसे देख कर मेरा दिल सहम गया, पर आभा बोली इससे देख कर डरो मत विजय, इसे मैंने ही रात ख्वाब में यहाँ आने को कहा था, तुम्हे अब इसके साथ जाना होगा, मैं तुम्हारा अतीत थी  और ये तुम्हारा आज है, एक वादा तुमने मुझसे किया था मुझसे मिलने का और लौट आने का बस उसका ही मुझे इंतज़ार था, इसके लिए ही मैंने अब तक सिर्फ तुम्हारी राह देखि थी, अब तुम जाओ अविन्त्का के साथ और एक खुशहाल जिंदगी जियो और मैंने जो उस प्रभु से तुमसे मिल कर उनके घर आने का समय माँगा था जो उन्होंने मुझे दिया वो पूरा हो गया है, अब मैं चलती हूँ, तुम अपना और अपने परिवार का ध्यार रखना और इस बात को एक ख्वाब मान कर भूल जाना की तुम कभी किसी ज़माने में विजय थे और किसी आभा से प्यार करते थे, अलविदा, ये कह वो जाने कहा गायब हो गयी और उसे  जाते हुए न सिर्फ मैंने बल्कि मेरी पत्नी और उस पुलिश वाले ने भी देखा, सब लोग हेरान थे और सोच में डूबे थे की जो वो देख रहे हैं वो एक ख्वाब है या हकीकत, किन्तु इसके बाद  मैं अपनी पत्नी और बच्चों  के साथ घर लौट आया, पर जो कुछ मेरे साथ हुआ जो सपना नहीं था, और ना ही उन् पलो को मैं आज तक भुला पाया हूँ..........






Saturday, 14 January 2012

Romantic Song-जो नसीब में नहीं था वो मेरे रब ने मुझे दिया,

जो नसीब में नहीं था वो मेरे रब ने मुझे दिया, तू था मुझसे दूर मेरे दिलबर मेरे करीब किया ,जो नसीब में नहीं था वो मेरे रब ने मुझे दिया, तू था मुझसे दूर मेरे दिलबर मेरे करीब किया ,

तेरी चाहत को दिल में सजाए बैठे थे, पर ये तुझसे ही कहने से हम डरते थे ,इसलिए तुझसे यु दूरी बनाये रहते थे ,जान ले तू मेरे दिल की बात ये ही चाहता था दिल ये मेरा पर जुबान से कुछ भी कहने से हम तो डरते थे , ओ ओ ओ ओ
 

तेरी आहट का हर वक़्त इंतज़ार हम तो करते थे , तुझे देखने के सौ बहाने हम  ढूंडा करते  थे ,किस तरह ऐसे छिप छिप तुम्हे हम देखा करते थे बस न देख मुझे कुछ ना पूछ ले तू मुझसे बस इसी बात से हम तो  डरते थे,
तेरी ही  खुशबू से महकता था मन ये मेरा, तेरी हर बात  से मचलता  था दिल ये मेरा, तेरी ही आवाज़ पे हम तो   फ़िदा थे ,बस  जुबां से कुछ भी कहने से हम तो  डरते थे, 

हो न जाए तू मुझसे  जुदा  इस कदर ,दूर न चला जाए मुझसे कभी मुझे अकेला छोड़ कर ,ना मोड़ ले  मुह  मुझसे  अपना किसी बात पर तू ,बस इसी अहसास से हम तो डरते थे, इसलिए न कह सके हम तुमसे की हम तो तुमपे कितना मरते थे,

तेरी ही राह देखती थी हर पल अंखिया मेरी , तेरी ही आवाज़ सुनने के लिए रहती थी हर वक़्त दिल में बेचैनिया  ओ ओ ओ, तेरी ही राह देखती थी हर पल अंखिया मेरी , तेरी ही आवाज़ सुनने के लिए रहती थी हर वक़्त दिल में बेचैनिया  ,

तेरी ही चाहत का है रंग मुझपे छाया , तेरे प्यार ने मुझे आज है शायर बनाया , ढाल दिया अपने ज़ज्बातों को अल्फाजों में हमने  ये सब तेरे ही इश्क के असर से ही है हो पाया ,

होती है मेरी सुबह सिर्फ तेरी बात से , रात को भी सिर्फ तू ही सीने में मेरे दिल बन कर धडकता है ,मैं सो भी जाऊ अगर तू जागता है  मुझमे मेरी साँसे बन कर , सपनो की हसीं दुनिया में भी तू ही आता है मुझे नज़र अक्सर , तू ही तो हर पल मेरे करीब होता है ऐ मेरे दिलबर ,

है  नही शायद तुझे खबर ऐ मेरे हमसफ़र, मेरा हर दिन तुम बिन अधूरा है , मेरा हर कदम तुम बिन ना पूरा है ,जिस ख्वाब में न आओ तुम वो ख्वाब भी मेरे लिए अधूरा है ,

मेरी हर धड़कन में सिर्फ तुम ही तो हो रहते ,दूर जाओगे हमसे फिर तुम भला कभी कैसे ,जब धड्केगा ये दिल मेरा अपने पास हर पल हम तुम्ही को पायंगे ,करते हो तुम भी हमसे इतनी मोहब्बत की बिन हमारे तुम भी ना अब कही चैन पाओगे , अपनी साँसों में तुम भी हर वक़्त हमारा ही अहसास ही हर पल पाओगे, तुम भी अब बिन हमारे ना अकेले कही रह पाओगे, 

ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म 
ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ 
ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म
ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ



 जो नसीब में नहीं था वो मेरे रब ने मुझे दिया, तू था मुझसे दूर मेरे दिलबर मेरे करीब किया ,जो नसीब में नहीं था वो मेरे रब ने मुझे दिया, तू था मुझसे दूर मेरे दिलबर मेरे करीब किया ,

 
  


ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म 
ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ 
ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म ह्म्म्म
ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ



  जो नसीब में नहीं था वो मेरे रब ने मुझे दिया, तू था मुझसे दूर मेरे दिलबर मेरे करीब किया ,जो नसीब में नहीं था वो मेरे रब ने मुझे दिया, तू था मुझसे दूर मेरे दिलबर मेरे करीब किया

 


Happy Sardi

dekho fir ye hai sardi ka mausam aaya, mausam k badle mizaaz, aaya sardi ka mausam khaas, milti hai mauj masti isme, milti hai chhutii  fir isme, naye naye tyohaaro k saath naye saal ka tohfa laaya, ye dekho fir ye hai sardi ka mausam aaya................

ajib duniya....

rishto ki duniya badi ajib hoti hai, kisi se bad rahi nazdiki to kisi se duri hoti hai, kabi koi ajnabi dil k behad karib aane lagta hai to kabi apna koi hmse door jane lagta hai, par apne aur gerro ki sachhi pachan tab hoti hai jab zindgi me behad khaalipan aur sirf tanhai saath hoti hai, ye rishto ki duniya  badi ajib hoti hai....

Good Morning

Mithe sapne chhod ab bhor hone ko aaya, jo dekha khwaab raat me wo din me poora karne ka samay h aaya, chidiyo ne cheh chah kr paawan sangit sunaya, paido ne hawao se shudhh kiya aagan sara, foolo ki khushbu se mehka h ye savera, ab chhod aalas aur khol ankhiya, kitne sundar palo k saath aaya h fir ye savera..... Gud morng, happy lohri

Wednesday, 11 January 2012

sad shayri

jab lagta hai ab sab kuch shaant hai, tab hi achaanak toofan kyon aata hai, jab lagta hai apna koi paas hai fir achaanak wo hmse door kyon ho jata hai, paas lana aur door karna, nazdik la kar zuda karna ye to marzi hai uss rab ki, par kisi ko dil mein panah dila kar jhoothe khwaab dikha kar wo rab hume kyon tadpata hai..............

Jane kaise huye the naraj tumse hm

Jane kaise huye the naraj tumse hm, dur chale gaye the tumse baht hm, dekhna chahte the tumhe waha bhi hm, bin tumhare waha behak gaye the hm, gerron ko apna samjhne lage the hm, laut tumhari baaho me aana chahte the hm, par waha apni hi galtiyo ki saza pa rhe the hm, tod kr tumse hmne jo nata joda tha kisi aur se, ussi ne ek din chhod diya tha muje tanha kisi mod pe, thaam kr haath  jo diya tumne saath mera, uss waqt tujse ki bewafai pe baht roye hm, tumhare sachhe pyar k to bas ab kaayal ho gaye hm, karte h ye wada tumse hm, na ruthenge tumse aur na kabi dur jaynge tumse hm, na karenge tumse kabi bewafai aur na hone denge dilo ki koi judai hm..... I love you a lot sweetheart

सच्चा प्यार कभी नहीं मरता.........................................


वक्त के हाथो चाहे कितनी मिले दूरिय सच्चा प्यार कभी नहीं मरता, चाहे ज़माना कितना भी दूर कर दे सच्चा प्यार कभी नहीं मरता, आ जाए चाहे राह में अनेको मुश्किलें, उन मुश्किलों से भी घबरा कर सच्चा प्यार कभी नहीं मरता, खड़ी  कर दे ये दुनिया चाहे दुनिया की सबसे ऊँची दीवार, पार कर देते हैं प्रेमी उसे भी जब होता है दिल में सच्चा प्यार, टूट जाते हैं सब बंधन ज़माने के बन जाता है रिश्ता सच्ची चाहत का, मर भी जाए प्रेमी तब भी रह जाता है जहाँ में नाम उनका क्यों की सच्चा प्यार कभी नहीं मरता........................................
.

Tuesday, 10 January 2012

muskurana sikha jayga koi..


Chupke se dil me aa gaya koi, soye arman jaga gaya koi,
socha na tha iss kadar dhire se dil chura le jayga koi, muje apni chahat ka diwana bna jayga koi, na pta na andaja tha iss tarah mithe khwaab muje dikha muskurana sikha jayga koi.
.

Tadapta h dil

Tadapta h dil tere intzar me, hu bekarar tere ikraar me, hu bechen iss kadar me teri ek jhalak k didar me, ab to aaja mere mehboob meri baaho me, kab se khadi pukarti hu main tumhe tumhari raaho me.....

Monday, 9 January 2012

mile tumhe b saath kisi ka......

Mile tumhe b saath kisi ka, jo rahe tumhare paas hmesha, na mile usse tumhe duriya kabi,
bas h fariyad rab se meri mile tumhe jeevan bhar ka saath bas ussi ka....

i love you


Dur chala gaya tha mujse yaar mera, waqt k tufano se ghir gaya tha pyar mera, kari laakh koshish zamane ne hme zuda krne ki, par uss khuda ne inn tufano se bacha kr har baar kinare lagaya pyar mera, banai logo ne gehari khai beech hmare, sochte the wo tod denge saare unse bandhan pyaar k hmare, par jab mere khuda ne bnaya ye rishta hmara to duriya la kr bhi na kam kr paya pyar hmara ye zamana sara, dekhte h log aur kahte h hme "ye wo h jinke pyaar k aage to jhuk gaya h aasman saara",
i love you so much sweetu......

Sunday, 1 January 2012

romantic shayari



Suni thi zindagi meri bin tumhare, the hm akele jahan me bin tumhare, aaj chalti h sans meri sirf tumhare sahare, na chale jana hmse tum dur kabi, kyu ki na jee sakenge hm ab bin tumhare....
I love you..