Thursday, 27 December 2012

kyon mud-mud kar aaj bhi hum tumhe dekhte hain-sad shayari

kyon mud-mud kar aaj bhi hum tumhe dekhte hain, karte hain khud se door tumhe fir bhi kyon itnaa kareeb tumhe hum paate hain, bhoolna chaahte hain tumhe hum par kyon fir tere diye har dard aaj bhi aansu ban kar meri aankhon se nikal aate hain, tod kar har rishta tujhse jaane kitni door chale aaye hain hum, par teri berukhi ke baad bhi tere hi lautne ki aas rakhte hain kyon aaj bhi dil mein hum, tujhse hi milne ka kyon intzaar karte hain har waqt bas hum, kaash teri galtiyon ka ahsaas tujhe ho jaaye,kaash tere diye har gam ka ahsaas tujhe ho jaaye,  ye hi soch kar har din jiya karte hain ab to bas hum....

क्यों मूड-मूड कर आज भी हम तुम्हे देखते हैं, करते हैं खुद से डोर तुम्हे फिर भी क्यों इतना करीब तुम्हे हम पाते हैं, भूलना चाहते हैं तुम्हे हम पर क्यों फिर तेरे दिए हर दर्द आज भी आँसू बन कर मेरी आँखों से निकल आते हैं, तोड़ कर हर रिश्ता तुझसे जाने कितनी डोर चले आए हैं हम, पर तेरी बेरूख़ी के बाद भी तेरे ही लौटने की आस रखते हैं क्यों आज भी दिल में हम, तुझसे ही मिलने का क्यों इंतज़ार करते हैं हर वक़्त बस हम, काश तेरी ग़लतियों का अहसास तुझे हो जाए,काश तेरे दिए हर गम का अहसास तुझे हो जाए,  ये ही सोच कर हर दिन जिया करते हैं अब तो बस हम....

No comments:

Post a Comment